आढ़तियों की एक बैठक हुई, बैठक शुरू होते ही दोनों गुटों में जम कर हुआ झगड़ा

0
344

कैथल, कृष्ण गर्ग
शनिवार को सुबह नई अनाज मंडी में विभिन्न खरीद एजेंसियों द्वारा खरीद की गई गेहूं की बोरियों में चल रही रिश्वत को बंद कर दिया गया। तीन घंटे के अंतराल के बाद मंडी के आढ़तियों की एक बैठक हुई। जिसमें दोनों एसोसिएशन के आढ़तियों व सदस्यों ने भाग लिया। बैठक शुरू होते ही दोनों गुटों में जम कर झगड़ा हुआ। जिस पर प्रधान सहित एक गुट संयुक्त बैठक को छोड़ कर यह कर चले गये कि मंडी में उठान करने के लिये रिश्वत बेसक चलती रहे, परन्तु समझौता नही करेंगे। कुछ आढ़तियों ने जिला प्रशासन से मांग की है कि दोनों एसोसिएशन को बंद करके अपने हवाले करे।
गौरतलब है कि मंडी में विभिन्न खरीद एजेंसियों द्वारा जो गेहूं की खरीद की है, उसको उठाने वाले वाहन जम कर अवैध वसूली कर रहे है। सभी खरीद एजेंसियों के अधिकारी कुम्भकरणी नींद सोये पड़े है। दो वर्षों से मंडी एसोसिएशन के सदस्य आई टी आई के पास बैठ कर आढ़तियों को ये वाहन बिना किसी पैसे के देते थे, ऐसे में मंडी के करोड़ों रुपये बच जाते थे। अब की मंडी के अंदर चुनाव के द्वारा प्रधान बनने के बाद एक नई एसोसिएशन बन गई। जिससे मंडी में दो एसोसिएशन हो गई और मंडी के आढ़ती दो गुटों में बंट गये। माल की ढुलाई करने वाले ने इसका पुरा फायदा उठाया और अब की बार भी रिश्वत का खेल शुरू हो गया। इस खेल को रोकने के लिये कल शुक्रवार को एक संयुक्त कमेटी बनाई गई, जिसमें राम फल मलिक, जसमेर ढांडा, ईश्वर जैन तथा रणदीप को लिया गया। इन्होंने शनिवार से पहले की तरह लाइन अनुसार वाहन देने का फैसला लिया। इन्होंने कहा कि शुक्रवार को रात्रि नौ बजे के बाद एक भी वाहन का गेट पास नही कटेगा। शुक्रवार रात्रि इस बात की मुनादी भी कि गई।
इसके बाद शनिवार सुबह दी कैथल फूड ग्रेन के मालिक राम निवास मितल व दोनों गुटों के कुछ आढ़तियों ने वाहन लदान शुरू करवाया और कुछ के गेट पास कटे पाये गये। इसी बात को लेकर दो गुटों में झगड़ा हो गया और 11 बजे मंडी स्थित मंदिर में बैठक बुलाई गई। बैठक में राम निवास मितल ने बताया कि उसने अपनी फर्म का कोई माल नही लदवाया। जो वाहन लगे हुये थे, उनमें उसकी दूसरी फर्म जो पुरानी अनाज मंडी में बनी हुई है, उसका माल लदवाया जा रहा था। कमेटी के सदस्य जसमेर ढांडा ने बताया कि कुछ आढ़तियों के शुक्रवार रात्रि को नौ बजे से पहले फोन आया था कि उनके वाहन लदे हुये है और उन्होंने गेट पास कटवाने है, मैने फोन पर उनको बताया था कि उनके नाम लिख लिये है और सुबह गेट पास कट जायेंगे। इसको लेकर दो गुटों के सदस्यों में आपस में तू तू, मै मै हो गई। मामले को बिगड़ता देख मंडी प्रधान कृष्ण मितल, अपने गुट के कुछ सदस्यों के साथ बैठक छोड़ कर चले गये। बाद दूसरा गुट भी मंदिर से चला गया। बैठक में कैथल फूड ग्रेन एसोसिएशन के चेयरमैन राजपाल चहल, जिला मंडी प्रधान अश्विनी शोरेवाला, इसी गुट के प्रधान प्रतिनिधि राम निवास मितल, न्यू फूड ग्रेन एसोसिएशन के प्रधान कृष्ण मितल, ईश्वर जैन, पवन बंसल, श्री चंद जैन, अरुण, राम नारायण, जसमेर सिंह आदि अनेक आढ़तियों ने भाग लिया।
फोटो सहित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here