इलैञ्चट्रोनिक वोटिंग मशीन की विश्वसनीयता कार्य प्रणाली के बारे में जागरूक किया जाएगा–धर्मवीर

0
346

कैथल, 2 फरवरी (कृष्ण गर्ग)
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुञ्चत धर्मवीर सिंह ने कैंप कार्यालय से मतदाता जागरूकता मोबाईल वैन को झंडी दिखाकर रवाना किया। यह वैन आगामी 70 दिनों में जिला के सभी गांवों में जाकर मतदाताओं को इलैञ्चट्रोनिक वोटिंग मशीन की कार्य प्रणाली तथा वीवीपैट के बारे में जागरूक करेगी।
धर्मवीर सिंह ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार जिला में मतदाताओं को इलैञ्चट्रोनिक वोटिंग मशीन की विश्वसनीयता कार्य प्रणाली के बारे में जागरूक किया जाएगा। मतदाता को जागरूक करना है, वोट का सही प्रयोग मतदाताओं को बतलाना है। उन्होंने कहा कि इस अभियान के दौरान इस वैन के साथ इलैञ्चट्रोनिक वोटिंग मशीन व वीवीपैट के मास्टर ट्रेनर भी उपलद्ब्रध रहेंगे, जो गांवों में मतदाताओं को जागरूक करेंगे तथा मौके पर इलैञ्चट्रोनिक वोटिंग मशीन एवं वीवीपैट का लाईव डैमो भी दिखाएंगे। उन्होंने मौके पर इलैञ्चट्रोनिक वोटिंग मशीन का बटन दबाकर वीवीपैट में पर्ची देखी। इस पर्ची में उनके द्वारा दबाए गए बटन वाले निशान को ही वोट डाला दिखाया गया। उपायुञ्चत ने कहा कि मतदाताओं का भरोसा बढ़ाने के लिए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा इलैञ्चट्रोनिक वोटिंग मशीन को वोटर वैरीफाएबल पेपर आडिट ट्रेल से युञ्चत कर दिया गया है। यह एक स्वतंत्र प्रिंटर प्रणाली है, जिसे इलैञ्चट्रोनिक वोटिंग मशीन से जुडऩे पर मतदाताओं को अपना मतदान बिल्कुल सही होने की पुष्टिï करने में मदद मिलती है।
उन्होंने कहा कि मतदाता को वोट डालने के बाद वीवीपैट से कोई पर्ची नही मिलती। कोई भी मतदाता वीवीपैट पर्ची को छू नही सकता है, हालांकि मतदाता को एक पारदर्शी स्क्रीन के पीछे पर्ची 7 सैकेंड तक दिखती रहती है और आखिर में यह पर्ची वीवीपैट के मुहर बंद डिद्ब्रबे में चली जाती है। कोई भी मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करके वीवीपैट अर्थात वोटर वैरीफियेबल पेपर ऑडिट ट्रेल पर उस द्वारा डाले गए मत को 7 सैंकड तक देख सकता है। इससे मतदाता को यह प्रमाण मिलेगा कि उस द्वारा डाला गया मत संबंधित उक्वमीदवार के पक्ष में गया है।
उन्होंने कहा कि वीवीपैट में इस्तेमाल किए जाने वाले थर्मल पेपर पर छपी हुई जानकारी 5 साल से भी अधिक समय तक पठनीय रहती है। वीवीपैट में कोई कैमरा नही होता है और यह मतदाता की फोटो नही खींच सकता है। भारत निर्वाचन आयोग लोकसभा निर्वाचनों के साथ-साथ राज्य विधानसभाओं के लिए होने वाले आगामी निर्वाचनों के दौरान भी सभी मतदान केंद्रों पर शत-प्रतिशत वीवीपैट युञ्चत ईवीएम का प्रयोग करने के लिए प्रतिबद्ध है। आवश्यकता के अनुसार वीवीपैट मशीनें उपलद्ब्रध रहेंगी। ईवीएम और वीवीपैट मशीनों का निर्माण सार्वजनिक क्षेत्र के सिर्फ 2 प्रतिष्ठिïत संस्थानों इलैञ्चट्रोनिञ्चस कोर्पोरेशन आफ इंडिया लिमिटिड और भारत इलैञ्चट्रोनिञ्चस लिमिटिड में एक स्वतंत्र तकनीकी विशेषज्ञ समिति के तकनीकी विशेषज्ञों के देखरेख और निर्वाचन आयोग की निगरानी में कराया जाता है, ताकि इसके साथ किसी तरह की छेड़छाड़ नही की जा सके। इस मौके पर चुनाव नायब तहसीलदार राजपाल भूरा, कानूनगो शमशेर, सुदेश, रमेश व अन्य संबंधित अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।
फोटो- केटीएल01

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here