उपायुक्त धर्मवीर सिंह ने तीर्थ स्थल पर प्रबंधों की समीक्षा की

0
212

कैथल, 3 अक्तूबर(कृष्ण गर्ग)
पूंडरी के विधायक प्रो. दिनेश कौशिक एवं उपायुक्त श्री धर्मवीर सिंह ने फरल गांव में पवित्र फल्गु तीर्थ पर चल रहे मेले के दौरान तीर्थ स्थल पर प्रबंधों की समीक्षा की तथा पुलिस अधिकारियों को सुरक्षा व्यवस्था दुरूस्त करने के निर्देश दिए। उन्होंने पवित्र तालाब के मंदिर के नजदीक घाटों पर बैरिकेटिंग लगाने व पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात करने के निर्देश देते हुए कहा कि इन घाटों पर गोताखोर भी तैनात रहें, ताकि किसी भी अप्रिय घटना को रोका जा सके।
विधायक प्रो. दिनेश कौशिक ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा फल्गु तीर्थ के विकास के लिए लगभग 5 करोड़ रूपए की राशि उपलब्ध करवाई गई है, जिसे तीर्थ के विकास पर खर्च किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा संपूर्ण राशि को तीर्थ के विभिन्न विकास कार्यों पर खर्च किया जाएगा तथा बकाया राशि को वापिस नही भेजा जाएगा। वे इस बारे में मुख्यमंत्री से भी बात करेंगे कि मेला समाप्त होने केे बाद शेष कार्यों को पूरा करवाया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा तीर्थ स्थल पर सभी आवश्यक सुविधाएं जुटाई गई हैं। विस्तारक तालाब के निर्माण को मेला समापन के बाद पूर्ण करवाया जाएगा तथा 16 करोड़ रुपए से बन रही मुख्य सड़क को भी मेला समाप्ति के बाद जल्दी बनाया जाएगा।
उपायुक्त श्री धर्मवीर सिंह ने गत एक अक्तूबर को सायं पवित्र तालाब में स्नान करते समय जाजनपुर निवासी जसविंद्र की दु:खद मौत के कारणों की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को सख्त दिशा-निर्देश दिए कि वे मंदिर के नजदीक घाटों की बुर्जियों पर बैरिकेटिंग करवाएं तथा इन घाटों पर 24 घंटे गोताखोर भी तैनात रहें। उन्होंने तीर्थ स्थल पर पिंडदान करवाने वाले पुरोहितों का पंजीकरण शुल्क 500 रुपए से कम करवाने की मांग पर कहा कि मेला प्रशासन द्वारा सभी पुरोहितों को ध्यान में रखते हुए पंजीकरण शुल्क को 4 अक्तूबर से 100 रुपए कर दिया गया है तथा सभी पुरोहितों के लिए पंजीकरण अनिवार्य है। बिना पंजीकरण किसी भी पुरोहित को पिंडदान करवाने की ईजाजत नही दी जाएगी। मेला प्रशासन द्वारा यह सुनिश्चित किया गया है कि श्रद्धालुओं को पवित्र तालाब में डुबकी लगाने के लिए स्वच्छ जल उपलब्ध हो। इसके लिए तालाब से निरंतर पानी की निकासी भी की जा रही है और निरंतर 4 टयूबवैलों द्वारा ताजा पानी भी तालाब में डाला जा रहा है। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए प्रशासन द्वारा आवश्यकता अनुसार फल्गु मेला के लिए बसे चलाई गई हैं, जिन्हें आवश्यकता पडऩे पर बढ़ाया भी जाएगा।
उन्होंने कहा कि वे मेला क्षेत्र में सुरक्षा के बारे में पुलिस अधीक्षक से बात करके पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात करवाएंगे, ताकि श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा न हो। इसके अतिरिक्त सांस्कृतिक मंच परिसर में भी सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए जाएंगे तथा असामाजिक तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि मेला क्षेत्र में शराब की अवैध बिक्री पर पूर्ण रूप से अंकुश लगाया जाएगा तथा संबंधित अधिकारियों को सख्त दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे। संपूर्ण मेला क्षेत्र में श्रद्धालुओं के लिए पर्याप्त स्वच्छ पेयजल के प्रबंध किए गए हैं तथा अस्थाई शौचालयों के अतिरिक्त मोबाईल शौचालय भी मेला क्षेत्र में लगाए गए हैं। उन्होंने साफ-सफाई के बारे में कहा कि मेला प्रशासन द्वारा यह सुनिश्चित किया जाएगा कि मेला समाप्ति के दो दिन बाद तक तीर्थ स्थल व गांव में सफाई की जाए।
मेला प्रशासक एवं कलायत के उपमंडलाधीश श्री जगदीप सिंह ने बताया कि मेला प्रशासन द्वारा निर्धारित स्थलों पर पर्याप्त संख्या में अस्थाई शौचालय व मोबाईल शौचालय लगाए गए हैं। उन्होंने सभी श्रद्धालुओं से अपील करते हुए कहा है कि वे खुले में शौच आदि न जाकर अस्थाई शौचालयों या मोबाईल शौचालयों का प्रयोग करें, ताकि गदंगी न फैले। उन्होंने कहा कि मेला प्रशासन द्वारा प्राथमिकता के आधार पर तीर्थ के विकास कार्य करवाए गए हैं तथा शेष कार्यों को मेला समाप्ति के बाद पूर्ण किया जाएगा और सरकार द्वारा उपलब्ध करवाई गई पूरी धनराशि इस तीर्थ स्थल के निर्माण पर खर्च की जाएगी तथा निर्माण कार्य में गुणवत्ता व पारदर्शिता बरती जाएगी।
इस मौके पर मेला अधिकारी तथा जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी कंवर दमन सिंह, खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी कंचन लता सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here