उपायुक्त ने उपवन एडोप्शन एजैंसी में रहने वाले बच्चों को उपलब्ध करवाई जा रही सुविधाओं एवं व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया

कैथल, 18 दिसंबर (कृष्ण गर्ग)
उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने बाल उपवन आश्रम तथा बाल उपवन एडोप्शन एजैंसी में रहने वाले बच्चों को उपलब्ध करवाई जा रही सुविधाओं एवं व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। उन्होंने बाल उपवन आश्रम एवं एडोप्शन एजैंसी में किए गए प्रबंधों पर संतुष्टि व्यक्त की तथा बच्चों की सुरक्षा के प्रबंधों की भी समीक्षा की। डॉ. प्रियंका सोनी ने स्थानीय कमेटी चौक स्थित सनातन धर्म मंदिर में संचालित किए जा रहे बाल उपवन आश्रम एवं बाल उपवन एडोप्शन एजैंसी में बच्चों के लिए किए गए प्रबंधों का निरीक्षण किया। उन्होंने सर्व प्रथम बाल उपवन आश्रम में शिकायत व सुझाव हेतू लगाए गए बॉक्स को अपनी मौजूदगी में खुलवाया तथा संचालकों से इस संदर्भ में जानकारी हासिल की। बाल उपवन आश्रम में 6 से 19 वर्ष आयु वर्ग के 18 बच्चे रह रहे हैं तथा बाल उपवन एडोप्शन एजैंसी में शुन्य से 5 वर्ष आयु वर्ग के 12 बच्चों की देखभाल की जा रही है। इसके उपरांत उन्होंने बाल भवन आश्रम में बच्चों के ठहरने के लिए किए गए प्रबंधों का निरीक्षण किया तथा इन प्रबंधों पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने आश्रम में बच्चों को कम्प्यूटर का ज्ञान प्रदान करने के लिए संचालित की जा रही कम्प्यूटर प्रयोगशाला का निरीक्षण किया तथा बच्चों को दिए जा रहे कम्प्यूटर के ज्ञान के संदर्भ में जानकारी हासिल की। उन्होंने आश्रम परिसर में स्थित शौचालयों का निरीक्षण किया।
उपायुक्त ने बाल उपवन आश्रम एडोप्शन एजैंसी में रखे गए 12 बच्चों के लिए किए गए प्रबंधों एवं उनकी देखभाल कर रहे संचालकों से बातचीत की। उन्होंने सिविल सर्जन डॉ. सुरेंद्र नैन को इन बच्चों के स्वास्थ्य पर नियमित निगरानी करने को कहा। उन्होंने कहा कि सभी बच्चों के स्वास्थ्य की जांच की जाए तथा आवश्यकता अनुसार उन्हें उपचार दिया जाए। उन्होंने बाल उपवन आश्रम के रसोईघर का निरीक्षण करते हुए वहां पर भंडार की गई सब्जी व अन्य खाद्य पदार्थों का निरीक्षण किया। इसके उपरांत उन्होंने स्थानीय करनाल रोड स्थित सिंचाई विभाग के विश्राम गृह परिसर में स्थित किशोर न्यायिक बोर्ड, जिला बाल संरक्षण अधिकारी व बाल संरक्षण समिति के कार्यालयों का निरीक्षण किया तथा मौके पर मौजूद स्टाफ से कार्य प्रणाली की जानकारी हासिल की। उन्होंने इन कार्यालयों में उपस्थिति रजिस्टर का भी अवलोकन किया।  डॉ. प्रियंका सोनी ने कहा कि सरकार के निर्देशानुसार नियमित अंतराल पर बाल संरक्षण गृहों का निरीक्षण किया जाता है तथा इन गृहों में बच्चों के रहने, शिक्षा तथा आदि प्रबंधों की समीक्षा की जाती है। इसके अतिरिक्त थर्ड पार्टी निरीक्षण किया जाता है और यदि कोई कमी पाई जाती है तो उसे तुरंत ठीक करवाया जाता है। उन्होंने कहा कि सभी उपमंडलाधीशों द्वारा संबंधित उपमंडल क्षेत्रों में स्थित बाल संरक्षण आश्रमों का निरीक्षण किया जाएगा तथा वहां पर बच्चों पर उपलब्ध करवाई जा रही

सुविधाओं की समीक्षा की जाएगी।
इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ. सुरेंद्र नैन, बाल उपवन आश्रम के संचालक रवि भूषण गर्ग, श्याम सुंदर बंसल, प्रेम सिंगला, चंद्रभान, जिला बाल संरक्षण अधिकारी कुलदीप, बाल उपवन आश्रम के प्रभारी अजय श्रीवास्तव, सीडीपीओ कमलेशगर्ग सहित अन्य संबंधित अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।
फोटो :-केटीएल01-

You can leave a response, or trackback from your own site.

Leave a Reply