करीब 15 लाख रुपए नकदी व लगभग 15 लाख रुपए के 69 स्मार्ट मोबाइल फोन चुरा लेने वाले गिरोह का पर्दापाश, एक गिरफ्तार व 6 दिन के रिमांड पर, वाकि की तलाश।

0
304


कैथल, 24 जनवरी (कृष्ण गर्ग)
दिनांक 8 जनवरी की सुबह अंबाला रोड़ कैथल स्थित शिव कम्युनिकेशन मोबाइल शॉप का ताला तोड़कर लगभग 30 लाख रुपए मूल्य की संपत्ती चुराने के मामले का खुलाशा कर सीआईए-टू पुलिस द्वारा बिहार राज्य निवासी शातिर इंटरस्टेट चोर गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए एक शातिर आरोपी को काबू करते हुए गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी के कब्जा से लाखों रुपए मूल्य के 20 चोरीशुदा स्मार्ट मोबाइल फोन बरामद कर लिए गये। पूछताछ दौरान चोरी की वारदात में लिप्त अन्य 3 आरोपियों की भी पुख्ता पहचान कर ली गई, जिनकी गिरफ्तारी व शेष चोरीशुदा संपत्ती की बरामदगी के लिए आरोपी का न्यायालय से दिनांक 29 जनवरी तक 6 दिन का पुलिस रिमांंड हासिल किया गया है।
कार्यालय पुलिस अधीक्षक में आयोजित प्रैसवार्ता दौरान एसपी वसीम अकरम ने बताया कि अज्ञात व्यक्ति दिनांक 8 जनवरी की सुबह राजेंद्रा सेठ कालोनी निवासी कृष्ण गर्ग की अंबाला रोड़ कैथल नजदीक आरकेएसडी कॉलेज स्थित शिव कम्युनिकेशन मोबाईल शॉप के ताले तोड़कर दुकान में रखी करीब 15 लाख रुपए नकदी व लगभग 15 लाख रुपए के 69 स्मार्ट मोबाइल फोन चुरा ले गए। वारदात की गंभीरता को देखते हुए मामले की जांच सीआईए-टू पुलिस के सुपर्द कर अभियोग को शिघ्रातिशिघ्र सुलझाने के आदेश दिए गये थे। सीसीटीवी कैमरे के माध्यम से प्राप्त हुई फुटेज से आरोपियों को फोटो तैयार कर सीआईए-टू पुलिस की कई टीमों द्वारा हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश व बिहार आदी राज्यों में आरोपियों की तलाश शुरू की गई। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सीआईए-टू के सबइंस्पैक्टर रमेश चंद्र व सहायक उपनिरिक्षक उज्जवल सिंह, एचसी संजय, जसमेर सिंह, राजीव, सिपाही अरुण तथा प्रदीप की टीम द्वारा 22 जनवरी को छतौनी चौंक मोतीहार (बिहार) से मीना बाजार मोतीहार की तरफ से आ रहे आरोपी विंदेश्वरी साह को काबु कर लिया गया। पुलिस अधीक्षक ने बताया आरोपी से सीआईए-टू प्रभारी सबइंस्पैक्टर सत्यवान की अगुवाई में एएसआई उज्जवल सिंह की टीम द्वारा की गई पूछताछ दौरान उसके कब्जा से लाखों रुपए मूल्य के 20 चोरीशुदा स्मार्ट फोन बरामद कर लिए गये। आरोपी से पूछताछ करते हुए वारदात में लिप्त अन्य 3 आरोपियों की पहचान शम्भू प्रसाद, पवन कुमार उर्फ भरतभुषण उर्फ तेरेनाम व राजुदास सभी निवासी घोडासहन बिहार के रुप में कर ली गई, जिनकी गिरफ्तारी व शेष चोरीशुदा संपत्ती की बरामदगी के लिए आरोपी का 23 जनवरी को न्यायालय से दिनांक 29 जनवरी तक 6 दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया गया है। शेष आरोपियों के मोतीहार, घोडासहन, पुर्वी चंपारण, बैहरी गंाम व सीतामडी में ठिकाने बताए गये है, जहां पुलिस द्वारा दबिश दी जा रही है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 4 सदस्यीय चोर गिरोह बेहद चालाक बताया गया है, जिसने पूर्ण योजनाबत्र तरीके द्वारा बडे शातिराना तरीके द्वारा चोरी की वारदात को अंजाम दिया।
मकानों व दुकानों में चोरी की वारदात को अंजाम देना वाला गिरोह दिनांक 6 जवरी को अंबाला रेलवे स्टेशन पहुंचा, जो अगली सुबह बस द्वारा सफर कर सभी आरोपी कैथल पहुंच गये तथा सारा दिन कैथल शहर की मार्किट में रात को चोरी करने के लिए मोबाइल दुकानों की जांच करते रहे, तथा इसी दौरान उन्होनें अंबाला रोड़ स्थित शिव कम्यूनिकेशन के नाम से मोबाइल फोन शॉप उनकी निगाह में चढ गई। चारो आरोपी 7 जनवरी के दिन मोबाइल खरीदने के बहाने दुकान में गए, तथा मोबाइल पसंद ना आने के बहाने वापिस आ गये, परंतु इस मध्य उनके सदस्यों द्वारा द्वारा योजनाबद्ध तरीके से चद्दर की आड करते हुए शोरुम में मौजूद दुकानदार व अन्य व्यक्तियों से नजर बचाकर दुकान व शटर के मध्य ग्लास में लगने वाले लॉक में फैवीक्वीक डाल दी, ताकी शीशे का लॉक न लग सके, ताकी वारदात के समय शीशा टूटने कारण शोर शराबा ना हो, तथा सभी शातिर सदस्य वापिस अंबाला चले गए। रात के समय अंबाला से कटर आदी खरीदकर सभी आरोपी टैक्सी द्वारा कैथल आए, तथा बडे ही शातिराना तरीके द्वारा चद्दर द्वारा आड करते हुए शटर के लॉक काटकर दुकान में प्रवेश कर वापिस शटर बंद कर दिया, तथा इस दौरान उनका सदस्य बाहर भी निगरानी करता रहा। गिरोह के सदस्यों द्वारा दुकान के अंदर सीसीटीवी डीवीआर चुराने का भी प्रयास किया गया, जिसमें वे नाकाम रहे, जो उनके पकडे जाने की मूल वजह बना। चोरी की उपरोक्त वारदात को 8 जनवरी की सुबह करीब 4 से 5 बजे मध्य अजांम देने उपरांत सभी आरोपी पेहवा चौंक कैथल से थ्रिव्हीलर द्वारा बस अड्डा पहुंच बस द्वारा वापिस अंबाला चले गए, जहां से ट्रेन द्वारा गोरखपुर बिहार पहुंचकर चोरीशुदा संपत्ती का बंटवारा किया गया। पुलिस अधीक्षक द्वारा सीआईए-टू पुलिस को उनकी उल्लेखनीय सफलता पर बधाई देते हुए वारदात में लिप्त अन्य आरोपियों की शिघ्रातिशिघ्र गिरफ्तारी करने के आदेश दिए गये है।
एसपी ने बताया कि उपरोक्त चोरगिरोह चोरीशुदा माल को नेपाल जाकर बेचते है, तथा शेष आरोपियों के नेपाल फरार होने की संभावना से ईंकार नहीं किया जा सकता। गिरफ्तार किया गया शातिर आरोपी इससे पुर्व केरला में मोबाइल शॉप से चोरी मामले में साढे 3 वर्ष की सजा काट चुका है, जबकि उसका पुत्र इसी प्रकार की चोरी मामले में कोटा राजस्थान जेल में बंद है। पुलिस अधीक्षक द्वारा शातिर इंटरस्टेट चोरगिरोह का भंडाफोड होने कारण कैथल व आसपास जिलों के चोरी मामलों का भी खुलाशा होने की उम्मीद जताई गई है। पुलिस अधीक्षक ने दुकानदारों से अपील कि है कि वे अपने व्यवसायिक संस्थानों पर एंटी थैप्ट अलार्म व इंटरनैट कनैक्टिड सीसीटीवी कैमरों का उपयोग कर समय-समय पर संस्थानों की निगरानी रखकर सहयोग करे।
फोटो – केटीएल03

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here