कोरोना को हराने के लिए हनुमान वाटिका में किया जा रहा है महामृत्युंजय मंत्र का पाठ सोशल डिस्टैंस का ध्यान रखते हुए सावन माह में की जा रही भोलेनाथ की अराधना

0
582


कैथल, 7 जुलाई । भगवान भोलेनाथ का प्रिय सावन माह कल से शुरू हो चुका है। कैथल के करनाल रोड पर स्थित श्री हनुमान वाटिका में भी सावन माह में भगवान भोलेनाथ की कृपा से कोरोना को हराने के लिए लगातार महामृत्युंजय मंत्र का पाठ किया जा रहा है। वाटिका में सोशल डिस्टैसिंग को ध्यान मेंं रखते हुए यह महामृत्युंजय का पाठ नित्य दिन किया जा रहा है। वाटिका के मुक्चय पुजारी पंडित विशाल शर्मा ने बताया कि सावन का पवित्र महीना शुरू हुआ है जो 3 अगस्त को सावन के आखिरी सोमवार पर यह महीना खत्म हो जाएगा। सावन के महीने में भगवान शिव की विशेष रूप से पूजा आराधना की जाती है। इस पवित्र महीने में भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए कई तरीके पूजा की जाती है। इनको प्रसन्न करने के लिए शिव मंत्रों का जाप करना बहुत ही उपयोगी सिद्ध होता है। इन्हीं मंत्रों में से सबसे प्रभावी महामृत्युंजय मंत्र है। शिवपुराण के अनुसार गंभीर बीमारियों और मानसिक परेशानियों को दूर करने के लिए महामृत्युंजय मंत्र बहुत ही उपयोगी होता है। इस मंत्र के जाप में इतनी शक्ति होती है कि मृत्यु के करीब पहुंच चुके व्यक्ति को जीवनदान मिल जाता है। इसलिए हनुमान वाटिका में महामृत्युंजय का पाठ प्रतिदिन किया जा रहा है। सोशल डिस्टैंसिंग बनाए रखते हुए यह पाठ किया जा रहा है। पंडित विशाल शर्मा ने बताया कि करीब एक महीने तक चलने वाला यह महीना भगवान शिव का महीना है। सावन का महीना भगवान शिव को बहुत ही प्रिय होता है। ऐसा माना जाता है कि सावन के महीने में भगवान भोले नाथ अपने भक्तों पर जल्दी प्रसन्न होते हैं। शास्त्रों में वर्णन की गई कथा के अनुसार सावन के महीने में माता पार्वती के द्वारा की गई कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने माता पार्वती संग विवाह का प्रस्ताव स्वीकार्य किया था। शिव की शरण में जो भी भक्त जाता है उनकी रक्षा स्वयं महादेव करते हैं। यहां तक मृत्यु के द्वारा तक पहुंचने वाले साधकों को भी भोले भंडारी उनकी रक्षा करते हैं। सावन के महीने में भगवान शिव हर किसी की मनोकामना जरूर पूरी करते हैं। वहीं ज्योतिष शास्त्र में भी भगवान शिव की महिमा का वर्णन किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here