खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने आढ़तियों के साथ की लाखों की ठगी, सरकार को भी लगाया चुना।

0
584

खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने आढ़तियों के साथ की लाखों की ठगी, सरकार को भी लगाया चुना।
कैथल, 10 अगस्त (कृष्ण गर्ग)
प्रदेश के खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के द्वारा जहां कैथल के आढ़तियों के साथ लगभग 23 लाख की ठगी की गई, वही पर सरकार को भी कई लाख का चुना लगाया है। मड़ी के आढ़ती विजय कुमार, राम नारायण, सुरेश कुमार, राम कुमार, जसमेर आदि ने बताया कि विभाग के द्वारा वर्ष 2019 में अप्रैल व मई माह में मंडी से गेहूं की खरीद की थी। गेहूं की खरीद के बाद आढ़तियों को लगभग 2 करोड़ की आढ़त दी थी। इस आढ़त पर इस खरीद एजेंसी के द्वारा 5 प्रतिशत के हिसाब से आढ़तियों से टी डी एस के रूप में टैक्स काटा था। यह काटा गया टैक्स साथ- साथ ही भरना होता है, जो बाद में आढ़तियों को रिफंड के रूप में मिलता है, परन्तु आढ़तियों से काटने के बावजूद इस खरीद एजेंसी के द्वारा काटा गया लगभग 10 लाख रुपये जमा नही करवाये, क्योंकि मंडी के किसी भी आढ़ती के खाते में यह टैक्स सो नही करता। उन्होंने बताया कि यदि जमा भी करवा दिया होगा तो इस खरीद एजेंसी के द्वारा अभी तक इसकी रिटर्न नही भरी और ऐसा न होना आढ़तियों के लिये यह टैक्स किसी काम का नही। यदि खरीद एजेंसी के द्वारा अब इस टैक्स को भरा जाता है या इसकी रिटर्न भरी जाती है तो भारी भरकम जुर्माना व ब्याज भरना पड़ेगा, जो कई लाखों में बैठता है। जिससे प्रदेश सरकार को भी लाखों का चुना लगेगा।
उन्होंने बताया कि इसी प्रकार इस खरीद एजेंसी के द्वारा मंडी में से वर्ष 2019 के अक्तूबर- नवम्बर माह में किसानों की धान खरीद की गई थी। जिसकी आढ़तियों को आढ़त लगभग ढाई करोड़ दी गई थी। खरीद एजेंसी के द्वारा इसमें भी लापर वाही बरती गई और यह आढ़त अप्रैल 2020 माह में दी और इसका टी डी एस लगभग 13 लाख बनाता वह भी जमा नही करवाया। यदि करवाया भी तो वह वर्ष 2020 में भरा होगा, क्योंकि यह भी आढ़तियों के इन्कम टैक्स के खाते में दिखाई नही दे रहा। जिस कारण से आढ़त वर्ष 2019-20 की और भरा होगा 2020-21 में । जिस कारण से यह भी आढ़तियों के किसी काम का नही। कोरोन के कारण इसको लेट फीस के साथ 2019- 20 में भी भरा जा सकता था, परन्तु विभाग ने ऐसी नही किया। खरीद एजेंसी की लापरवाही के कारण जहां आढ़तियों का यह वापस मिलने वाला लगभग 23 लाख का टैक्स बेकार जा रहा है, वही लेट फीस व जुर्माना आदि से प्रदेश सरकार को कई लाखों का नुकसान झेलना पड़ेगा।

अकाउंट विभाग में करेंगे पता- डी एफ एस सी
इस बारे में जब खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक प्रमोद शर्मा से जाना गया तो उसने बताया कि वे आज ही इस बारे में अपने अकाउंट विभाग में पता करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here