खाद के अभाव में खाद के इन ट्रकों पर आपा-धापी

0
406

कैथल, 12 जनवरी (कृष्ण गर्ग)
बुधवार को पाई सोसाइटी में करोड़ा के किसानों का यूरिया खाद वितरित किया गया। पता चला कि खाद के दो ट्रक मंगलवार रात्रि को करोड़ा गांव में किसानों को बांटने के लिये आये थे, परन्तु खाद के अभाव में खाद के इन ट्रकों पर आपा-धापी मच गई। जिससे किसानों में झगड़ा हो गया और झगड़े की सुचना पुलिस को दी गई। जिस पर रात को इन खाद के ट्रकों का पुलिस अपने साथ ले गई और पाई सोसाइटी में लाकर खड़ा कर दिया गया। इनके साथ ही कुछ किसानों ने इन ट्रकों के पाई सोसाइटी में होने के बावजूद बाहर खड़े होकर, रात भर इनका पहरा दिया। करोडा निवासी साधू रााम, राम भरोसे, राम कुमार, राजेश, जय किशन, पाला राम, नरेश आदि ने बताया कि उनको संदेह था कि कही इस खाद को जिला प्रशासन उनके गांव की जगह कही दूसरे गांव के किसानों को न दे दे। सुबह इस खाद को लाइन लगवाकर किसानों को केवल दस- दस कट्टे खाद के वितरित किये गये। खाद को देखते हुये पाई के किसान भी खाद लेने के लिये टूट पड़े, परन्तु करोडा गांव के किसानों ने पाई के किसानों को खाद की लाइन में लगने नही दिया गया। खाद भी करोडा सोसाइटी के कर्मचारियों ने ही खुद वितरित किया।
पाई के किसानों ने बताया कि पाई प्रदेश का सबसे बड़ा दूसरा गांव है और इस गांव की सोसाइटी पर कई हजार किसान निर्भर करते है। यहां केवल नाम मात्र खाद ही किसानों को दिया गया। उन्होंने बताया कि किसान अब कि बार न तो अपनी गेहूं की फसल में डी ए पी खाद डाल सके और अब न ही उनको यूरिया खाद मिल रहा। गेहूं की फसल में किसान केवल इस समय तक ही खाद डाल सकता है। इसके बाद खाद डालने का कोई फायदा नही। उन्होंने बताया कि खाद के अभाव में उनकी गेहूं का उत्पादन बहुत कम होगा और किसानों को प्रति एकड़ उत्पादन कम होने से लगभग 25 हजार का नुकसान होगा। उन्होंने सरकार से समय पर खाद न देने से इस नुकसान का मुआवजा 25 हजार रुपये प्रति एकड़ देने की मांग की है।
उधर पाई सोसाइटी के इंचार्ज वेद प्रकाश ने बताया कि जो खाद करोडा गांव के किसानों को वितरित किया गया, वह रात करोडा गांव में झगड़ा होने के कारण पाई सोसाइटी में उतारा गया था। आज सुबह करोडा गांव के पेक्स कर्मचारियों ने अपने आप ही वितरित किया है। उन्होंने बताया कि पाई सोसाइटी में इस सीजन में केवल 3030 कटे ही आये है। उन्होंने बताया कि पहले 1810 तथा 1520 अब सोमवार को आये थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here