गाँव पाई की बेटियों का राष्ट्रीय स्कूली कबड्डी प्रतियोगिता के लिए हरियाणा की टीम में चयन

0
159

गाँव पाई की बेटियों का राष्ट्रीय स्कूली कबड्डी प्रतियोगिता के लिए हरियाणा की टीम में चयन
कैथल, 1 दिसम्बर कृष्ण गर्ग
पाई गांव की बेटियों का राष्ट्रीय कबड्डी प्रतियोगिता में चयन होने से ग्रामीणों में खुशी की लहर है। पाई के विरेंद्र कुमार ने बताया कि पाई गांव की नैश्नल कबड्डी टीम का प्रदर्शन बहुत श्रेष्ठ रहता है। अपने बेहतर खेल प्रदर्शन के आधार पर ही गाँव पाई के कबड्डी खिलाड़ी प्रो कबड्डी लीग में लगातार खेल पा रहे हैं। गाँव की बेटियाँ भी पिछले कुछ वर्षों से बहुत बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं, जिसके बलबूते स्कूल टीम में व भार-वर्गों की प्रतियोगिताओं में भी ये बेटियाँ प्रथम स्थान प्राप्त कर रही हैं। अब की बार भी पिछले महीने अंडर 17 वर्ग में राष्ट्रीय स्कूल कबड्डी प्रतियोगिता में हरियाणा की टीम ने प्रथम स्थान प्राप्त किया था और इस टीम में गाँव पाई से दो लड़कियों नेहा और अर्चना ने भाग लिया था। अभी अंडर 14 वर्ग और ह्वठ्ठस्रद्गह्म् 19ह्लद्ध स्कूली राष्ट्रीय प्रतियोगिता का आयोजन दिसम्बर माह में ही होने की संभावना है और हरियाणा अंडर 14 वर्ग टीम में पाई 5 खिलाड़ी नीतू , मोनिका, नीकिता, पिंकी, गीता और अंडर 19 वर्ग हरियाणा टीम में रीतू का चयन हुआ है और इस राष्ट्रीय प्रतियोगिता की तैयारी के लिए हरियाणा टीम का कैंप 8 दिसम्बर से 8 दिनों तक गाँव पाई में ही लगाया जाएगा। लेकिन दुर्भाग्य यह है कि इतने परिश्रम और सफलताओं के बावजूद इन कबड्डी खिलाडिय़ों को कोई खेल सुविधा उपलब्ध नहीं है। उन्होंने बताया कि विधायक और सरकार को इन खिलाडिय़ों की उपलब्धि के प्रमाण पत्र सहित अवगत करवाया गया था। उस समय सरकार और विधायक की ओर से इन कबड्डी खिलाडिय़ों को कबड्डी एकेडमी, खेलने के लिए इंडोर-स्टेडियम को मंजूर करने का आश्वासन दिया गया है। लेकिन 3 वर्षों इस दिशा में कुछ भी कार्य शुरू नहीं हुआ है, ना ही तो इन खिलाडिय़ों के लिए कोई ऐसा स्थान है। जहाँ मैट पर ये खिलाड़ी अपना अभ्यास कर सकें । ना ही गाँव में 400 मीटर का ट्रैक है जहाँ बच्चे कबड्डी के साथ एथलीट की भी तैयारी कर सकें। इन खिलाडिय़ों की सरकार से बार-बार प्रार्थना है कि आश्वासन नहीं हमें खेलने के लिए सुविधा उपलब्ध कराने की कृपा करें।
फोटो सहित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here