जल शक्ति अभियान को गति प्रदान करने के लिए ें रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगवाएं ।

0
462


कैथल, 17 जुलाई (कृष्ण गर्ग)
भारत सरकार के श्रम आयोग रोजगार विभाग के आर्थिक सलाहकार देवेंद्र सिंह ने जिला के उद्योग एवं वाणिज्य के प्रतिनिधियों का आह्वïान किया कि वे जल शक्ति अभियान को गति प्रदान करने के लिए अपने औद्योगिक प्रतिष्ठïानों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगवाएं ताकि वर्षा के जल का संचय करके भूमि में रिचार्ज किया जा सके।
देवेंद्र सिंह स्थानीय लघु सचिवालय स्थित कॉन्फें्रस हॉल में जल शक्ति अभियान के तहत जिला के उद्योग एवं वाणिज्य के प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने डीआईसी की जिला प्रबंधक को निर्देश दिए कि वे जिला में इन प्रतिनिधियों द्वारा स्थापित किए जाने वाले रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के बारे में विचार विमर्श करके लक्ष्य निर्धारित करें। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा गत 1 जुलाई से आगाम 15 सितम्बर तक जल शक्ति अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान देश के 254 जिलों में चलाया जा रहा है तथा हरियाणा के सभी 22 जिले इसमें शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत केंद्र सरकार द्वारा विशेष टीमें जिलों में भेजी गई हैं। टीम द्वारा अल्पकालिक एवं दीर्घ कालीन योजनाएं बनाने के लिए जिला में अनुसंधान किया जा रहा है तथा आंकड़े एकत्रित किए जा रहे हैं।
देवेंद्र सिंह ने कहा कि मनुष्य ने भूमिगत जल का अत्यधिक दोहन किया है, जिससे भूमिगत जल का स्तर लगातार गिरता जा रहा है। उन्होंने कल इसी संदर्भ में पंचायती राज संस्थाओं के निर्वाचित जन प्रतिनिधियों का भी आह्वïान किया था कि वे जल संचय में अपना पूर्ण योगदान दें। उन्होंने कहा कि विश्व के अन्य देशों में काफी पहले से ही जल संचय की ओर ध्यान दिया जा रहा है तथा चेन्नई में लोगों ने वर्षा के जल के संचय हेतू घरों में रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाए हुए हैं। उन्होंने स्पष्टï किया कि वर्षा के छत पर जमा होने वाले पानी को ही भूमि में रिचार्ज किया जा सकता है, जो साफ पानी होता है।
अतिरिक्त उपायुक्त आरके सिंह ने कहा कि हमें जल संचय के लिए अपने व्यवहार में बदलाव लाना होगा तथा जल संचय हमारा सांझा दायित्व है। सरकार द्वारा आम जन को जल शक्ति अभियान के बारे में जागरूक करने के लिए अच्छे विज्ञापन भी दिए जा रहे हैं ताकि घर-घर में जल शक्ति के संदेश को पहुंचाया जा सके। इस अवसर पर डीआईसी की जिला प्रबंधक विजय लक्ष्मी, जिला परिषद के उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेश राविश एवं अन्य संबंधित अधिकारी व प्रतिनिधि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here