जिला बाल सरंक्षण समिति ने किया दोनों बाल आश्रमो के बच्चो के लिए क्रिसमिस पर कार्यकम आयोजित।

0
194

कैथल 25 दिसम्बर 2014

को जिले के दोनों बाल आश्रम में रहने वाले बच्चो के लिए आज का दिन एक खुशियो भरी सोगात लेकर आया था। क्योकि बाल आश्रम में अपना भविष्य तलाश रहे बच्चे जो नहीं जानते कि खुशिया क्या होती है और कोई अपना उनके साथ खुशिया मनाने के लिए नहीं था। लेकिन जिला बाल सरक्षण समिति के तत्वा धान में आयोजित एक कार्यक्रम में जो कि क्रिसमस मनाने को था। जिला बाल संरक्षण यूनिट के अधिकारी खुद चल कर इन बच्चो के साथ क्रिसमस के दिन की खुशिया बाटने पहुंचे। यह क्षण इन बच्चो के लिए जिंदगी का एहम दिन बन गया। क्योकि जहाँ सांता क्लोज उनके बीच था वही काफी और लोग भी उनके बीच उनकी खुशिया बाटने उनके साथ थे। दोनों बाल आश्रमो में क्रिसमस डे मनाया गया जहा बच्चों ने क्रिसमस की खूब खुशिया बांटी। इस मोके पर जहा अपनों से दूर जीवन तलाश रहे बच्चे अपने गमो को भूल सांता क्लोज के साथ क्रिसमस डे पर खूब मनोरंजन करते नजर आये। इस मौके पर कानून एवं परिविक्षा अधिकारी निधि मलिक ने बताया कि यह कार्यक्रम जिला बाल संरक्षण यूनिट की और से आयोजित किया गया था इसका उदेश्य उन बच्चो को जो माँ बाप के होते हुए भी या जिनके माँ बाप नहीं है अपनों से दूर अनाथ आश्रमो में जीवन व्यतीत कर रहे है को खुशियो और अपनेपन का एहसास करवाना था। उन्होनें बताया कि बच्चों ने इस मौके पर शानदार संास्कृतिक कार्यक्रम में अपनी प्रस्तुती से मानवता और एकता का सन्देश दिया। इस मोके पर बच्चो को सम्बोधित करते हुए संरक्षण अधिकारी कुलदीप सिंह ने बच्चों को ईसा मसीह के बारे में बताते हुए कहा कि ईसा मसीह ने हमेशा भाई चारे और एकता का पाठ पढ़ाया और अपना जीवन भी इसी काम में लगाया। उनके लिए जाति कोई मायने नहीं रखती केवल इंसानियत सबसे पहले मानी जाती है। मदर टेरेसा इसका जीता जागता उदाहरण था। उन्होंने बच्चों से कहा कि वे यह न सोचे कि उनका कोई नहीं है। हम सब उनके साथ है और वहीे भारत का भविष्य उज्जवल करेगें। ऐसी वो कामना करते है। इस अवसर पर बाल कल्याण समिति सदस्य श्रीमती अनिता सैनी, डा0 राजकुमार महाशय व पवन थरेजा, जे0 जे0 बोर्ड सदस्य रणबीर सिंह तथा जिला बाल संरक्षण समिति की तरफ से रविन्द्र शर्मा,अमरजीत व सीमा और आश्रम के के0 वी0 एस0 पिलई0, ललिता पिलई, प्रवीण आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here