जे.जे.पी. व आप गठबंधन को बड़ा झटका

0
384


जे.जे.पी. व आप गठबंधन को बड़ा झटका
-आप के युवा जिलाध्यक्ष विकास तंवर क्योड़क ने अपने हजारों समर्थकों के साथ छोड़ी पार्टी
कैथल, 8 मई (कृष्ण गर्ग)
लोकसभा चुनावों से 4 दिन पहले ही जे.जे.पी. एवं आप पार्टी गठबंधन को कैथल जिले से बड़ा झटका लगा है। आप पार्टी के तेज तर्रार नेता एवं युवा जिलाध्यक्ष विकास तंवर क्योड़क ने अपने हजारों समर्थकों के साथ पार्टी छोड़ दी है। पार्टी छोडऩे की घोषणा विकास ने आज मीडिया क्लब कैथल में प्रैसवार्ता कर दी। हम जे.जे.पी. को बड़ा झटका इसलिए भी कह रहे हैं, क्योंकि विकास तंवर एक तो कैथल जिले के दूसरे सबसे बड़े गांव क्योड़क से संबंध रखते हैं। अकेले क्योड़क गांव में करीब 11000 वोट हैं। विकास से ही कैथल में आप पार्टी का वजूद था। विकास एक युवा नेता होने के साथ-साथ गरीब, किसान एवं कमजोर वर्ग की आवाज बनकर हर बार सबसे आगे खड़े रहे हैं। विकास के पिता जसबीर ङ्क्षसह भी जिला परिषद सदस्य एवं कैथल कापरेटिव मार्कीङ्क्षटग सोसायटी के चेयरमैन रह चुके हैं। जसबीर ङ्क्षसह का नाम हरियाणा भर में एक निष्पक्ष पंचायती व्यक्ति के रूप में जाना जाता है। विकास के साथ बिरमपाल तंवर, श्याम लाल, रोहताश, प्रदीप, सुरेश शर्मा, रामकुमार, ईश्वर, काला, रङ्क्षवद्र, विशाल, लाखन, राजू सहित अन्य युवा उपस्थित थे।
बॉक्स
कई बड़े नेता साध रहे हैं विकास से संपर्क
जानकारी अनुसार विकास द्वारा इस्तीफा दिए जाने के बाद विकास को अपनी पार्टी में शामिल करने के लिए कई बड़े नेता संपर्क साध रहे हैं, लेकिन विकास तंवर ने कहा कि उसने 8 मई को गांव क्योड़क में अपने समर्थकों की एक बैठक बुलाई है और कार्यकत्र्ताओं से विचार करने के बाद ही कोई फैसला लेंगे।
बॉक्स
विकास तंवर ने क्यों छोड़ी पार्टी?
आप पार्टी छोडऩे के पीछे कारणों का खुलासा करते हुए विकास ने बताया कि जिस कांग्रेस पार्टी को भ्रष्टाचार का दूसरा नाम बता व कांग्रेस नेताओं को चोर बता अरङ्क्षवद केजरीवाल ने दिल्ली की कुर्सी हासिल की थी, आज केजरीवाल अपने वास्तवित मुद्दों से हटकर अपने स्वार्थपूर्ति के लिए उसी भ्रष्टाचारी कांग्रेस पार्टी से गठबंधन करने के लिए पीछे-पीछे घूम रहे हैं। विकास ने बताया कि केजरीवाल की इस दोगली नीति से वे काफी आहत हुए और स्वयं को ठगा महसूस कर रहे थे, इसलिए उन्होंने पार्टी छोडऩे का निर्णय लिया। विकास ने कहा कि हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष भी अपने पुराने उसूलों को ताक पर रखकर अपने स्वार्थ सिद्धी एवं वोटों के लिए हर गलत हथकंडा अपना रहे हैं।
बॉक्स
हर बार अन्याय के खिलाफ बुलंद की आवाज
आप पार्टी की तरफ से जितने भी अन्याय के खिलाफ आंदोलन किए गए, उसमें विकास एवं उसके समर्थकों की ही संख्या नजर आती थी। चाहे किसानों की समस्याओं को लेकर हाईवे जाम करने की बात हो, जिसमें विकास तंवर एवं उसके समर्थकों पर केस भी दर्ज हुए या सी.आई.ए.-2 इंस्पैक्टर विमल कुमार की बहाली की मांग को लेकर पिहोवा चौक जाम करके इंस्पैक्टर विमल कुमार को बहाल करवाना हो या क्योड़क सरकारी स्कूल में 15 अध्यापकों की कमी होने पर आंदोलन कर एवं सरकार पर दबाव बनाकर 13 अध्यापकों की नियुक्ति करवाना हो या रोहतक में हुए बलात्कार के विरोध में सी.एम. सिटी करनाल में जाकर आंदोलन करना हो, जिसमें विकास तंवर एवं उसके समर्थकों पर पुलिस ने लाठीचार्ज एवं वाटर कैनन का भी इस्तेमाल किया। मध्यप्रदेश में 6 किसानों पर गोली चलाने के विरोध में नैशनल हाइवे पर आंदोलन करने की बात हो, चाहे एस.बी.आई. ब्रांच क्योड़क के अधिकारियों से लड़कर किसानों के खाते में लगाई गई नाजायज बयाज राशि वापिस करवाने की बात हो या सरकारी कार्यालयों में किसान एवं गरीब वर्ग की आवाज बनकर उनके हक के लिए लडऩे की बात हो, हर समय विकास तंवर आगे रहे हैं।
बॉक्स
3 साल के कार्यकाल में ही कमाया बड़ा नाम
विकास तंवर को आप पार्टी में शामिल हुए मात्र एक वर्ष हुआ था, जब पार्टी ने उन्हें उनकी मेहनत को देखते हुए युवा जिलाध्यक्ष का पद सौंप दिया था। विकास ने अब तक मात्र 3 वर्ष के कार्यकाल में ऐसे कई जनआंदोलन किए, जिससे उनकी पहचान बड़े एवं तेज तर्रार नेताओं में होने लगी थी। विकास तंवर द्वारा किए गए आंदोलनों की वजह से कैथल जिले की जनता में उनकी काफी पैठ है और उनका इस्तीफा देना आप+जेजेपी गठबंधन को भारी मतों का नुक्सान पहुंचा सकता है।
फोटो- केटीएल01

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here