तालाब का गंदा पानी किसानों के खेतों में निकालने से किसानों की फसल बर्बाद

0
337

पाई, संजय ढुल
पाई के ढाब वाले तालाब का गंदा पानी किसानों के खेतों में निकालने से किसानों की फसल बर्बाद हाक गई है, जिससे किसानों में जिला प्रशासन के प्रति व्यापक रोष दिखाई दिया। किसानों से प्रशासन से बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा और खेतों से गंदा पानी कही और निकालने की मांग की है। किसान रमेश, मनोज, रामकुमार, राजेश, बसाऊ, कर्मवीर, विक्की, सतीश, बीरभान, सलमान ने बताया कि गांव के कुछ मौजिज लोगों ने जिला प्रशासन की शय पर उनसे बिना पूछे पाई के सिसमौर रोड पर ढाब वाले तालाब का गंदा पानी उनके खेतों में निकाला जा रहा है। यह तालाब पाई का सबसे बड़ा तालाब है,जो लगभग 35 एकड़ में फैला हुआ है और इसकी गहराई भी बहुत ज्यादा है। इसके पानी से उनके लगभग सेकड़ों एकड़ में गंदा पानी भर गया, जिससे उनकी मूंग, ज्वार, बरसीन आदि की खड़ी फसल बर्बाद हो गई है। उन्होंने बताया कि इस तालाब के पानी निकासी खेतों में नही हो सकती और यदि इसको खाली करने के लिये गंदे पानी को ड्रेन में करनी चाहिये थी। उन्होंने जिला प्रशासन से बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा, निकासी बंद करके उनके खेतों से गंदा पानी निकाला जाये।
फोटो सहित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here