धर्मनगरी सिरसा में बेखौफ हो रहा है अवैध मीट का कारोबार

0
298

सिरसा(प्रैसवार्ता)। धर्मनगरी सिरसा के शहरी क्षेत्रों में बगैर चिकित्सीय जांच के नियमों का उल्लंघन कर अवैध मीट का कारोबार करने वाले भेड़, बकरे, सूअर व मुर्गे काट कर बेच रहे है। करीब तीन लाख की आबादी वाले धर्मनगरी सिरसा में भेड़, बकरे, सुअर इत्यादि को काटने के लिए नगर परिषद सिरसा द्वारा एक बकायदा स्लाटर हाऊस बनाया हुआ है, मगर स्लाटर हाऊस वीरान देखा जा सकता है। मीट का कारोबार करने वाले अपने ठिकानों पर ही सरेआम बकरे इत्यादि काट देते है, जो जीव हत्या के दायरे में आकर एक दंडनीय अपराध कहा जा सकता है। केवल इतना ही नहीं, नियमानुसार वायु सेना केंद्र के दो सौ मीटर के दायरे में बकरे, मुर्गे इत्यादि काटने पर प्रतिबंध है, मगर सिरसा के एयरफोर्स स्टेशन के इर्द-गिर्द अनेक दुकानों पर बकरे इत्यादि काटे जा रहे है। सूत्रों के मुताबिक स्लाटर हाऊस में शायद ही कभी किसी ने बकरा इत्यादि काटा हो, मगर परिषद के कागज गवाही देते है कि स्लाटर हाऊस में बकरे इत्यादि काटे गए है। दरअसल शहरी क्षेत्रों में मांस की कटाई एक दंडनीय अपराध की श्रेणी में आती है। धर्मनगरी में यह अवैध कारोबार परिषद के भ्रष्ट तंत्र की मिली भगत से चल रहा है। प्रैसवार्ता को मिली जानकारी के अनुसार परिषद द्वारा एक व्यक्ति को ठेका दिया हुआ है, जो मीट बेचने वाले कारोबारियों से फीस तो वसूलता है, मगर पर्ची नहीं दी जाती। एक कारोबारी से हर रोज 30 रूपये वसूले जाते है, जिसका कोई लेखा-जोखा या हिसाब नहीं रखा जाता है। शहर में बगैर जांच के बकरे, भेड़े, सुअर व मुर्गे इत्यादि धडल्ले से काट कर परोसे जा रहे है, जो मनुष्य के स्वास्थय के साथ खिलवाड़ कर रहे है, मगर प्रशासन चुप्पी साधे हुए किसी हादसे का इंतजार करता नजर आ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here