पुलिस अधीक्षक जिला में बेहतरीन कानून व्यवस्था कायम रखने के लिए उचित दिशा निर्देश दिए

0
420


कैथल, 2 जुलाई (कृष्ण गर्ग)
कार्यालय पुलिस अधीक्षक में 2 जुलाई को एसपी विरेंद्र विज द्वारा सभी थाना प्रबंधक व चौकी प्रभारियों की मिटिंग लेकर उनका परिचय प्राप्त करने उपरांत सभी को जिला में बेहतरीन कानून व्यवस्था कायम रखने के लिए उचित दिशा निर्देश दिए गये। पुलिस अधीक्षक ने सभी थाना प्रबंधकों को 15 दिन का समय देते हुए अपने-अपने क्षेत्र में कानून व्यवस्था की स्थिती में सुधार करने के आदेश दिए है, इसके उपरांत उनके कार्य की आगामी समीक्षा की जाएगी। उन्होंने निर्देश दिए कि एनडीपीए शिर्षक मामलों में जांच अधिकारी गहनता पुर्वक व्यापक जांच करते हुए पुख्ता सुबूत जुटाएं, ताकी अधिकाधिक तस्करों को न्यायालय की मार्फत सजायाब करवा कर सलाखों के पीछे भेजा जा सके। जांच अधिकारी मादक पदार्थ तस्करी करने वाले मुख्य तस्कर तक पहुंचकर उनसे जुड़े सभी आरोपियों का पता लगा रैकेट को जड़मूूल सहित उखाडऩे का प्रयास करें, ताकी युवा वर्ग को नशे की चपेट से बचाया जा सके। थाना प्रबंधकों को कडाई पुर्वक निर्देश दिए गये कि सीएम विंडो की मार्फत प्राप्त होने वाली शिकायतों का रेड जोन में पहुंचना किसी सुरत में सहन नहीं किया जाएगा, अत: समय रहते इनका उचित निपटारा सुनिश्चित करें। उन्होनें निर्देश दिए कि मारपीट व झगड़े के मामलों में थाना में प्राप्त होने वाली शिकायतों पर तुरंत कार्यवाही करें, क्योंकि अनावश्यक रुप से देरी करने पर कई बार इस प्रकार के विवाद बढ जाते है। कोई भी संवेदनशील मामला घटित होने पर थाना प्रबंधक तुरंत पुलिस अधीक्षक के संज्ञान में लाएंगे। थाना प्रबंधक व जांच अधिकारी किसी भी व्यक्ति से जुबानी बदतमीजी ना करें, तथा बगैर किसी दबाव के तुरंत उचित कार्रवाई अमल में लाएं। पुलिस अधीक्षक ने सभी डीएसपी को निर्देश दिए कि वे प्रत्येक 6 माह की अवधी दौरान अपने अधिकार अंतर्गत के प्रत्येक थाना में बेहतरीन अनुसंधान करने वाले एक-एक आईओ का चुनाव करें। उक्त जांच अधिकारियों को 26 जनवरी व 15 अगस्त को सम्मानित करने के अतिरिक्त उच्चाधिकारियों द्वारा नकद ईनाम व प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित करने के लिए सिफारिश सहित प्रेषित किया जाएगा, ताकी अन्य आईओ भी बेहतरीन काम करने के लिए प्रेरित किया जा सके। सभी थाना प्रबंधक कार्यालय पुलिस अधीक्षक को सुचित करेंगे कि लोकसभा चुनाव के दौरान करीब 3 प्रतिशत असला धारकों द्वारा अपना शस्त्र जमा ना करवाने के पीछे क्या कारण रहे। कितने शस्त्रधारक अपने पते-ठिकाने पर रहने नहीं पाए गये, उस समय वे कहां रह रहे थे। चुनाव के समय शस्त्र जमा करवाने के आदेश की अनदेखी करने वाले शस्त्र धारकों की पहचान करके उनकों रेड जोन में रखें ताकी उनके शस्त्र लाईसैंस नवीनीकरण के समय उचित कार्रवाही अमल में लाई जा सके। बैठक के दौरान पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी थाना प्रबंधक व चौकी प्रभारियों से उनकी विभागिय दिक्कतों की जानकारी हासिल कर अधिकांश दिक्कतों का मौका पर निवारण कर दिया गया।
एसपी विरेंद्र विज ने ट्रैफिक एचएचओ को आदेश दिए कि सडक़ दुर्घटना में मौत होने के मामलों में थाना यातायात प्रभारी खुद घटनास्थल पर पहुंचकर उचित कार्रवाही करेंगे तथा दुर्घटना होनें के मूल कारण का पता लगाकर इस प्रकार की घटनाओं की रोकथाम के लिए आगामी कदम उठांए। सभी थाना प्रबंधक अपने-अपने क्षेत्र में इस प्रकार के ब्लैक स्पॉट की पहचान करके मूल समस्या के निवारण हेतू प्रशासन को लिखेंगे, ताकी सडक़ दुर्घटनाओं में होने वाले मौत ग्राफ में गिरावट दर्ज की जा सके। मिटिंग के दौरान एसपी द्वारा शहर क्षेत्र में सुबह 9 बजे से शाम 8 बजे के दौरान हैवी व्हीकल के प्रवेश को रोकने के लिए प्रभारी कदम उटाने के आदेश दिए गये। एसपी ने ऑवरलोडिड हैवी वाहनों की की फोटो लेकर नियमानुसार आगामी कार्रवाई अमल में लाने के निर्देश देते हुए चेतावनी दी कि इस प्रकार के वाहन चालकों से पैसे एंठने वाले कर्मचारी-अधिकारी के खिलाफ कड़ी विभागिय कार्रवाई अमल में लाई जाएगी तथा उन्हें किसी भी सूरत में सहन नहीं की जाएगा। आज की बैठक में डीएसपी मुख्यालय कुलवंत सिंह, डीएसपी एईसी कुलभूषण, डीएसपी कैथल-1 विनोद शंकर, डीएसपी कैथल-2 कृष्ण कुमार, डीएसपी गुहला प्रमोद कुमार, डीआरओ इंस्पेक्टर मेहर सिंह, सीआईए-1 व टू प्रभारी तथा सभी थाना प्रबंधक व चौकी प्रभारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here