पेंशन की जगह मिला खुद का मृत्यु प्रमाण पत्र

0
708

कैथल, 2 जुलाई (कृष्ण गर्ग)
पाई की एक महिला को लगभग 6 माह तक विधवा पेंशन के लिये चक्कर लगाने के बावजूद भी उसको पेंंंंंंंशन तो नही मिली, परन्तु उसकी खुद की मृत्यु का प्रमाण पत्र जरूर मिल गया। महिला धनों देवी ने बताया कि कि उसके पति ओम प्रकाश की मृत्यु के बाद उसने अपनी विधवा पेंशन के लिये कागज पाई के एक अटल सेवा केंद्र पर आन लाइन भरवाये थे। वह पेंशन के लिये पिछले लगभग छ माह से कभी इस सेवा केंद्र तो, कभी पुंडरी कार्यालय में चक्कर काट रही है। वह अनपढ़ है और उसको किसी भी ओर से कोई सही रास्ता नही दिखाया जा रहा। उसने बताया की कल उसको पेंशन के लिये पाई के इस सेवा केंद्र से एक कागज दिया गया और उससे कहा गया की यह कागज उसकी विधवा पेंशन बंधने का है और इसको पुण्डऱी बी डी पी ओ कार्यालय में आने वाले समाज कल्याण के कर्मचारी के पास जमा करवा दे। जिससे उसकी पेंशन जल्दी ही बंध जायेगी। वह उस कागज को लेकर पुण्डरी कार्यालय में गई तो वहां उपस्थित अधिकारियों ने उससे वह कागज लेने से जवाब देते हुये कहा की यह पेंशन बंधने का नही है, अपितु उसकी खुद की मृत्यु का प्रमाण पत्र है। इसको ठीक आन लाइन ही ठीक करवा कर लाये। जब उसके इन दोनों कागजों को देखा गया तो उसके पति के मृत्यु प्रमाण पत्र में पंजीकरण की तारीख 8 मार्च 2019 दिखाया गया है और उसके बाद आन लाइन भरने वाले उसके खुद के फार्म पर पंजीकरण की तारीख इससे पहले की यानि 14 जनवरी 2019 की दिखाई गई है। जिला प्रशासन व सरकार को कोसते हुये उसने कहा की ये कैसे सेवा केंद्र खोल रखे है, जिनको कागजों को इलम ही नही है। उन्होंने कहा की पहले सरकारी कार्यालय में फार्म भर कर देने से ही पेंशन बंध जाती थी, परन्तु अब इस आन लाइन ने लोगों को परेशान कर दिया है। अब वह अपनी पेंशन कैसे चालू करवाये, उसको चिन्ता सता रही है। वह एक गरीब महिला है और उसके घर कोई कमाने वाला भी नही है। उन्होंने ऐसे सेवा केंद्र संचालकों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।
छानबीन कर करेंगे कार्रवाई- कुलदीप
इस बारे में जिला समाज कल्याण अधिकारी कुलदीप शर्मा ने कहां की वे इस मामले की छानबीन कर कार्रवाई करेंगे।
फोटो-पी01- अपने व अपने पति के बनाये गये मृत्यु प्रमाण पत्र दिखाती महिला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here