प्रदेश के 2800 गांवों में 24 घंटे बिजली उपलद्ब्रध करवाई जा रही-मनोहर

0
135

कैथल, 29 नवक्वबर (कृष्ण गर्ग)
मुक्चयमंत्री मनोहर लाल ने वीरवार को कैथल के भाई उदय सिंह किला परिसर में रोड शो से पूर्व आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार लोगों को निर्बाध बिजली उपलद्ब्रध करवाने के लिए कृत संकल्प है और इसी दिशा में वर्तमान में प्रदेश के 2800 गांवों में 24 घंटे बिजली उपलद्ब्रध करवाई जा रही है। इसी क्रम में एक साल के अंदर प्रदेश के शेष सभी गांवों में 24 घंटे बिजली उपलद्ब्रध करवाई जाएगी।
मनोहर लाल ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है कि सरकार ने अपने 24 घंटे बिजली देने के वायदे को फलीभूत किया है। अब से पहले सभी सरकारों ने 24 घंटे बिजली देने की बात कही जरूर थी, लेकिन केवल पूर्व मुक्चयमंत्री बंसी लाल ने 150 गांवों में अपने कार्यकाल में 24 घंटे बिजली दी थी। प्रदेश में पहली बार इतने बड़े स्तर पर निर्बाध बिजली उपलद्ब्रध करवाने का फैसला लिया गया और लोगों को राउंड दी ञ्चलाक बिजली दी जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने 200 यूनिट तक भी बिजली की दरों में काफी कमी की है। पहले जहां उपभोञ्चताओं को एक यूनिट की साढ़े 4 रुपये देने पड़ते थे, वहीं उपभोञ्चता अब 200 यूनिट तक 2 रुपए प्रति यूनिट बिजली की दर दे रहे हैं। इससे लोगों को 500 रुपए महीनें का लाभ हुआ है।
उन्होंने कहा कि गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले जिन लोगों के बिल न भरने के कारण बिजली के कनैञ्चशन कटे हुए थे। उनके कनैञ्चशन बहाल करने के लिए भी नई स्कीम चलाई गई, जिसके तहत यदि बीपीएल धारक एक साल का 1300 रुपए बिल भर देता है तो वह अपना कनैञ्चशन चालू करवा सकता है। इसके साथ-साथ 6 महीनों की अवधि में 200-200 रुपए की अदायगी करके भी बीपीएल के कनैञ्चशन को बहाल करवाया जा सकता है। मुक्चयमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने सîाा में आने के बाद बिजली विभाग को 27 हजार करोड़ रुपए के घाटे से उबारा है। इसमें लोगों की ईच्छा शञ्चित और प्रदेश की सकारात्मक सोच ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। यही कारण रहा कि लोगों ने प्रदेश सरकार की अपील पर अपने बिजली के बिलों को जमा करवाया, जिससे लोगों को निर्बाध बिजली उपलद्ब्रध हो सकी।
मुक्चयमंत्री ने कहा कि सरकार के चार साल पूरे हो गए है और सरकार की उपलद्ब्रिधयों को बताने का समय आ गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच को आगे बढ़ाने के लिए सभी मंत्री, सांसद, विधायक और कार्यकर्ता आम जनता के बीच जाएं। लोगों की जीवन शैली को सरलीकरण करने का जो कार्य प्रदेश सरकार ने किया है, वह अब तक कोई सरकार नही कर पाई है। यह सरकार आम लोगों की स्वतंत्र सरकार है। हर किसी को अपनी बात सीना चौड़ा करके कहने का अधिकार है। राजशाही और खानदानी हुकुमत का समय समाप्त हो चुका है। लोगों ने राजनेताओं के चञ्चकर लगाने छोड़ दिए हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि सरकार ने अध्यापकों के लिए ऑनलाईन तबादला नीति बनाई, ताकि अध्यापकों को अपने तबादलों के लिए चंडीगढ़ के चञ्चकर न काटने पड़े। यही नही जो अध्यापक आयु वर्ग में वरिष्ठï थे, उनको तबादलों में प्राथमिकता दी गई।
मनोहर लाल ने कहा कि किसी भी व्यञ्चित को अब नौकरी में सिफारिश करने की जरूरत नही है, ञ्चयोंकि नौकरियां मैरिट के आधार पर दी जा रही है। जो सबसे ज्यादा मेहनतकश युवा होगा और पढ़ाई में अच्छे अंक ले रहा है, उसे समाज सेवा का अवसर नौकरी देकर दिया जा रहा है। भाई उदय सिंह किला परिसर में उपस्थित जनसमूह को देखकर गदगद हुए मुक्चयमंत्री ने हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन स्वीकार किया और कहा कि भारत माता का जयघोष की गूंज पहले स्तर पर चंडीगढ़ और दूसरे स्तर पर दिल्ली के गलियारों पर पहुंचनी चाहिए। मुक्चयमंत्री की हौसला अफजाई करने पर वहां मौजूद अपार जन समूह ने हाथ उठाकर अपनी सहमति व्यञ्चत करते हुए गगन भेदी नारा बुलंद कर दिया।
जिलाध्यक्ष अशोक गुर्जर ने मुक्चयमंत्री का किला परिसर में पहुंचने पर भारतीय जनता पार्टी की जिला ईकाई की ओर से स्वागत करते हुए कहा कि प्रदेश में जिस तरह से ईमानदार और सशञ्चत मुक्चयमंत्री ने मुक्चय सेवक के रूप में भूमिका निभाई है, उससे हरियाणा प्रदेश की छवि पूरे भारत वर्ष में निखरी है। यह प्रयास निरंतर रहेगा और लोगों को मूलभूत सुविधाएं उपलद्ब्रध करवाने के लिए कोई कोर कसर नही छोड़ी जाएगी।
इस मौके पर गुहला के विधायक कुलवंत बाजीगर, पूंडरी के विधायक प्रो. दिनेश कौशिक, लाड़वा के विधायक डा. पवन सैनी, वेदपाल, प्रदेश उपाध्यक्ष धर्मपाल शर्मा, भाजपा प्रदेश कार्यकारणी सदस्य राव सुरेंद्र सिंह, पूर्व विधायक लीला राम, संजय भारद्वाज, सुभाष हजवाना, विञ्चकी शर्मा, अशोक भारती, शैली मुंजाल, सुरेश संधु, हरिचंद जांगड़ा, सुरेश ञ्चयोड़क, संगीता, प्रवीण सरदाना के अलावा अन्य भाजपा कार्यकर्ता व पदाधिकारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here