प्रदेश सरकार का कारनामा, तालों के अंदर खरीद की किसानों की फसल

0
367

प्रदेश सरकार का कारनामा, तालों के अंदर खरीद की किसानों की फसल
कैथल, 15 मइ्र्र, (कृष्ण गर्ग)
प्रदेश सरकार ने शनिवार को 17 दिनों के बाद दो दिन के धरने प्रदर्शन करने के बाद किसानों की गेहूं की फसल की खरीद तालों के अंदर की, जब जाकर आढ़तियों तथा किसानों को कुछ राहत की सांस मिली। विदित रहे कि पिछले माह सरकार ने 29 अप्रैल

को किसानों की उनकी गेहूं की फसल की खरीद की थी। उस समय शनिवार और रविवार को मंडियों में पड़े गेहूं के उठान की कह सरकार ने खरीद बंद करदी थी। मौशम विभाग ने भी घोष्णा कि थी की 2 व 3 मई को बरसात होगी और उसको देख कर

सरकार ने ये दो दिन भी खरीद बंद करने और उठान की कही थी। सरकार ने कहा था कि 4 मई से किसानों की गेहूं की फसल की खरीद सुचारू रूूप से कि जायेगी, परन्तु प्रदेश में लाक डाउन के चलते 4 मई से भी किसानों की गेहूं की फसल की खरीद

शुरू नही हो पाई। इस दौरान किसान अपनी फसल को मंडियों में लाते रहे और आढ़ती अधिक देर तक रखवाली न करने के कारण बोरियों में भर कर रख दिया था। 15 दिनों के बाद 13 मई से किसानों की इस गेहूं को खरीद करने के आदेश तो आये परन्तु

फसल बारियों में होने के कारण सरकारी अधिकारियों ने खरीद करने से इंकार कर दिया तो किसानों व आढतियों ने मार्केट कमेटी का घेराव कर सरकार के खिलाफ दो दिन तक धरना प्रदर्शन किया। उसके बाद सरकार ने आदेश दिये कि बारियों में भरी फ

सल की खरीद करी जाये, परन्तु मंडियों के सभी गेट बंद रहेगे तथा कोई भी किसान अपनी फसल लेकर मंडी में नही आयेगा। किसी को भी मंडी में वाहन लेकर आने की अनुमति नही होगी। खरीद एक उच्च अधिकारी की देख रेख में होगी। जिस पर आज

कैथल की अनाज मंडी में किसानों की भरी हुई फसल की खरीद तहसीलदार कैथल सुदेश नेहरा कि देख रेख में तालों के अंदर हुई। इस खरीद पर लोग सरकार का खुब मजाक उडा रहे है कि ऐसी खरीद पहली बार देखी है।
फोटो- केटीएल01- तहसीलदार सुदेश नेहरा कमेटी के अधिकारियों के द्वारा किसान से विडियों ग्राफी से पूछताछ कर फसल की खरीद करते हुये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here