भाकियू प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम जिला उपायुक्त को ज्ञापन देंगे

0
98

कैथल, 9 सितंबर (कृष्ण गर्ग)
किसानों की धान की निलामी जिले के अनुसार करवाने तथा नमी की मात्रा बदलवाने हेतु भाकियू प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम जिला उपायुक्त को ज्ञापन देंगे। भाकियू के राष्ट्रीय सलाहकार अजीत सिंह हाबड़ी ने बताया कि किसानों की पी आर धान सरकारी खरीद एजेंसियां खुद नही करती, अपितु ये खरीद एजेंसियां अपने लिये खरीद करने के लिये राइस मिल का चयन करते है। राइस मिल वाले ही इनके लिये खरीद करते है और वे ही अपने द्वारा खरीद किये गये धान की कस्टम मिलिंग करते है, जो किसानों के लिये सरासर गलते है। खरीद एजेंसियों के द्वारा अपने कर्मचारियों के द्वारा खुद सीधे रूप से खरीद करनी चाहिये। उन्होंने बताया कि इतना ही नही कही पर मिल वाले अधिक है और धान कम आती है। ऐसी स्थिति में वहां किसानों को उनकी फसल का मूल्य सही मिल जाता है, परन्तु जहां किसानों की फसल बहुत अधिक आती है और मिल वाले कम है तो वहां पर किसानों की धान मिट्टी के भाव कम मूल्य पर खरीद की जाती है। उन्होंने कहां कि मजबूरी वंश किसानों को अपनी फसल कम मूल्य पर बेचनी पड़ती है। उन्होंने कहां कि यदि जिले अनुसार मिल वालों की खरीद खोलनी चाहिये। जिले का राइस मिल जिले की किसी भी मंडी से खरीद एजेंसी के लिये धान की खरीद कर सके। उन्होंने बताया कि अब की बार सरकार ने धान में नमी की मात्रा घटाकर 17 प्रतिशत से 16 प्रतिशत की है, जो किसानों के साथ अन्याय है। उन्होंने बताया कि किसान अपनी धान कम्बाइन से कटवाते है और कम्बाइन से फसल कटवाने पर नमी की मात्रा कम नही हो सकती। उन्होंने कहां कि सरकार को नमी का मात्रा बढ़ाकर 17 से 19 करनी चाहिये थी। उन्होंने मांग कि है कि यदि सरकार नमी मात्रा बढ़ा नही सकती तो फिर 17 प्रतिशत ही रखनी चाहिये। इस बारे में वे जिला उपायुक्त को एक ज्ञापन देंगे। इस अवसर पर उनके साथ बलवान, धीरा, करतारा, दिलबाग आदि भी उपस्थित थे।
फोटो- अजीत हाबडी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here