मंडी में जाम लगने के कारण गुरुवार को मजदूरों ने की हड़ताल

कैथल, 31 अक्तूबर (कृष्ण गर्ग)
कैथल की नई अनाज मंडी में जाम लगने के कारण गुरुवार को मजदूरों ने हड़ताल की। मजदूरों ने आरोप लगाया की मंडी में दो एसोसिएशन होने के कारण मंडी में जाम की स्थिति बनी हुई है और जिला प्रशासन इस ओर कोई ध्यान नही दे रहा। मजदूर इस मामले में जिला प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन करके मार्केट कमेटी सचिव दलेल सिंह को भी मिले। मजदूरों द्वारा की गई हड़ताल व प्रदर्शन की सुचना पाकर थाना शहर प्रभारी प्रदीप कुमार व चौंकी इंचार्ज रणवीर सिंह भी मंडी पहुंचे और हर सम्भव सहायता करने का आस वासन दिया। बाद में आस वासन के बाद मजदूरों ने दोपहर बाद हड़ताल समाप्त कर दी। जब जाकर आढ़तियों ने राहत की सांस ली। प्रदर्शन करने वाले मजदूरों में प्रधान बलवंत, राजकुमार, कृष्ण, तरसेम, रामकुमार, लीला आदि उपस्थित थे। मजदूरों ने बताया की हर वर्ष चार बजे से 12 बजे तक किसानों की ट्रालियां मंडी से बाहर रोकी जाती थी। क्योंकि इस समय मंडी से खरीद किया गया धान का लदान होता था। अब की बार मंडी के ओ प्रधान बने हुये है और कोई भी इस समय इस नियम पर अमल नही कर रहा। जिसके चलते किसान हर समय अपनी फसल की ट्रालियां मंडी में लकर आते है और सडक़ों पर धान की ढेरियां डाल कर चले जाते है। किसानों की ट्रालियां मंडी में बढऩे के कारण खरीद किये गये धान का लदान नही हो रहा और मंडी में पैर रखने की जगह नही है। जिला प्रशासन व मार्केट कमेटी सचिव भी सडक़ों पर धान डालने से नही रोक रहा। यदि सडक़ों पर धान की ढेरियां होगी तो वे लदान कैसे करेंगे। प्रति वर्ष मंडी के चारों ओर किसानों की ट्रालियां मंडी से बाहर रोकने के लिये जिला पुलिस का भी सहयोग मिलता था, परन्तु वह भी अब कुम्भकरण नींद सोया पड़ा है। जिस पर मंडी प्रधान कृष्ण मितल, थाना प्रभारी प्रदीप व चौंकी इन्चार्ज रणवीर सिंह ने आस वासन दिया कि पांच बजे के बाद 11 बजे तक कोई भी किसान की ट्राली मंडी में प्रवेश करने नही दी जायेगी। इस पर मजदूरों ने कमेटी सचिव से सडक़े खाली करवाने की कही। इन आस वासनों के बाद मजदूरों ने दोपहर बाद हड़ताल खोल दी।
फोटो सहित

You can leave a response, or trackback from your own site.

Leave a Reply