महिलाओं के बिना राष्टï्र की रचनात्मक निर्माण की कल्पना भी बेमानी

0
212


कैथल, 5 जनवरी (कृष्ण गर्ग)
इंडियन मीडिया सैंटर एवं वायॅस मीडिया सर्विसिज द्वारा आयोजित सामाजिक समरसता संदेश यात्रा पंजाब के फतेहगढ़ साहिब से चलकर चंडीगढ़, पंचकूूला, अंबाला, यमुनानगर, इंद्री, करनाल, कुरूक्षेत्र तथा पेहवा से होती हुई कैथल पहुंची। आरकेएसडी कॉलेज से इस यात्रा को शहर के विभिन्न मार्गों में समरसता का संदेश देने के लिए जिला राजस्व अधिकारी सुरेश कुमार एवं समाजसेवी सुरेश गर्ग नौच ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रदेश के विभिन्न 20 कॉलेजों की 120 लड़कियां इस यात्रा के दौरान हाथों में महिला सशञ्चितकरण, अनेकता में एकता, सैनिकों का सक्वमान तथा प्यार और सौहार्द बढ़ाने की पट्टिकाएं हाथ में लिए समरसता का संदेश दे रही थी। यह यात्रा पेहवा चौक, हरियाणा शहीद स्मारक, कमेटी चौक होते हुए सनातन धर्म मंदिर में पहुंची, जहां समाजसेवी भाजपा के वरिष्ठï नेता राव सुरेंद्र, रविभूषण गर्ग व सुरेश नौच सहित विभिन्न सामाजिक, धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने यात्रा का स्वागत किया।
इस दौरान सनातन धर्म मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में विशिष्टï अतिथि राव सुरेंद्र ने अपने संबोधन में बेटियों का ह्दय से अभिवादन करते हुए कहा कि कड़ाके की सर्दी में इन बहादुर लड़कियों ने इस दल में शामिल होकर वास्तव में सराहनीय कार्य किया है। उन्होंने कहा कि आम जनमानस तक इस यात्रा के माध्यम से न केवल समानता का संदेश पहुंचा है, बल्कि आज के संदर्भ में भी बेटियों को घर की चार दीवारी तक सीमित रखने वाले लोगों ने भी उन्हें आजादी से अपने पंख फैलाने की इजाजत देने का मन भी बनाया है।
सुरेश गर्ग नौच ने कहा कि इस यात्रा ने एक बात स्पष्टï कर दी है कि आज बेटियां किसी भी क्षेत्र में बेटों से कम नही हैं। उन्होंने कहा कि चाहे अंतरिक्ष में जाने की बात हो, विमान उड़ाने की बात हो, प्रशासनिक अधिकारी बनने की बात हो या फिर मुक्चयमंत्री या प्रधानमंत्री का पद हो, भारत की बेटियों ने हर क्षेत्र में कामयाबी से अपना परचम फहराया है।
रविभूषण गर्ग ने कहा कि देश की आधी आबादी की मालिक महिलाओं के बिना राष्टï्र की रचनात्मक निर्माण की कल्पना भी बेमानी है। उन्होंने यह भी कहा कि देश की एकता और अखंडता को अक्षुम रखने को प्रतिबिक्विबत करती हुई बेटियों द्वारा प्रस्तुत लघु नाटिका ने भी यह अहसास दिलाया है कि हिमालय की ऊंची बर्फीली घाटियों में अब भी हमारे सीमा प्रहरी चाहे सियाचिन हो, डोकलाम हो या फिर कश्मीर का कारगिल, बटालिक या दरास क्षेत्र को जमे हुए हैं और उन्ही की वजह से आज हम सुरक्षित हैं। बेटियों ने भी सेना में प्रवेश करके अपने दमखम का परिचय दुनिया को दे दिया है।
इंडियन मीडिया सैंटर के प्रदेश महासचिव नरेंद्र सिंह ने बताया कि अभिभावकों की सहमति से प्रदेश के विभिन्न शहरों की 120 बेटियां 10 दिनों की इस यात्रा में स्वैच्छा से आम जन मानस को सौहार्द की भावना का संदेश देने के लिए शामिल हुई है। गुरूगोबिंद सिंह जी के छोटे दो साहबजादों की शहादत स्थली फतेहगढ़ साहिब से यह यात्रा शुरू हुई और आज कैथल से नरवाना, बरवाला, हिसार, भिवानी, दादरी, महेंद्रगढ़, कनीना, रेवाड़ी, झज्जर, रोहतक, गोहाना, इसराना, पानीपत, सोनीपत होती हुई खानपुर कलां अपने मुकाम तक 9 जनवरी तक पहुंचेगी। की ओर रवाना होगी।
इंडियन मीडिया सैंटर के स्थानीय संयोजक सर्वजीत ने अब तक सैंटर द्वारा आयोजित यात्राओं में कैथल की संस्थाओं, जिनमें सनातन धर्म सभा, अग्रवाल वैश्य सभा, सेवा संघ, मानव कल्याण समिति आदि के सहयोग के लिए आभार व्यञ्चत किया। इस मौके पर यात्रा में शामिल सभी 120 बेटियों को अग्रवाल वैश्य सभा की ओर से मैडल से सक्वमानित किया गया, जबकि कैथल की इस दल में शामिल 11 बेटियों व उनके अभिभावकों को सेवा संघ व इंडियन मीडिया सैंटर की तरफ से स्मृति चिन्ह प्रदान कर उनका सक्वमान किया गया।
इस मौके पर समाजसेवी रमेश बंसल, धर्मवीर कैमिस्ट, सतपाल गुप्ता, जोङ्क्षगद्र ढुल, सुमन सिंगला, पे्रमचंद जैन, सतनारायण गोयल, राजीव सिंगला, तुलसी दास आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here