रेल बजट: प्रभु का अतुल्य सफर का वादा, नहीं बढ़ेगा किराया, रिजर्वेशन अब चार महीने पहले

0
985

नई दिल्ली रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने मोदी सरकार के पहले पूर्ण रेल बजट में भविष्य की नींव रखने की कोशिश करते हुए कोई लोकलुभावन घोषणा नहीं की है। यात्री किराये में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है, लेकिन यात्रियों की सुरक्षा और सुविधाओं पर ज्यादा जोर दिया गया है। उन्होंने कहा कि मैंने यात्री किराये में वृद्धि नहीं की है और हम विभिन्न उपाय करके भारतीय रेल की यात्रा को एक सुखद अनुभव बनाने की दिशा में प्रयास कर रहे हैं। लंबे समय बाद ऐसा हुआ है कि बजट में किसी नई ट्रेन की घोषणा नहीं की गई है। रेल मंत्री ने अपने बजटीय भाषण में कहा कि नई ट्रेनों की घोषणा समीक्ष रिपोर्ट के बाद की जाएगी, जो संसद के इसी सत्र में आ जाएगी।

पढ़ें: रेल बजट 2015-16 से जुड़े हर अपडेट्स

उन्होंने कहा कि दलालों को रोकने के लिए रेल टिकट अब यात्रा तिथि से 120 दिन पहले बुक किए जा सकेंगे, अभी यह समय सीमा 60 दिन है। बिना रिजर्वेशन वाले टिकट कटवाने के लिए ‘ऑपरेशन 5 मिनट’ शुरू किया जा सकेगा, जिससे लंबी लाइनों से यात्रियों को मुक्ति मिल पाएगी। इसके अलावा मोबाइल ऐप से जनरल टिकट भी कटाए जा सकेंगे और आईआरसीटीसी की साइट हिन्दी और अंग्रेजी के अलावा दूसरी क्षेत्रीय भाषाओं में भी शुरू होंगी। लोकल ट्रेनों में महिला डिब्बों में सीसीटीवी लगाए जाएंगे और जनरल डिब्बों में भी मोबाइल चार्जर लगेंगे।

सुरेश प्रभु ने रेल यात्री किराये में कोई वृद्धि नहीं करने की घोषणा करते हुए अपने पहले रेल बजट में निवेश को बढ़ाने, रेलवे में साफ-साफाई और यात्री सुविधाओं के विस्तार, यात्री और माल परिवहन क्षमता में विस्तार के साथ 11 क्षेत्रों में मिशन के रूप में काम करने पर जोर दिया। उन्होंने यात्रियों की जरूरत और रेलवे के हितों में संतुलन बिठाने का वादा किया, ताकि यह गुणवत्ता, सुरक्षा और पहुंच के लिहाज से विश्व स्तर का उद्यम बन सके।

रेल मंत्री ने कहा कि पिछले कुछ दशकों में रेल सुविधाओं में संतोषजनक सुधार नहीं हुआ है, जिसकी वजह उचित निवेश न होना है, जिसने क्षमता को प्रभावित किया है, मनोबल कम हुआ है। उन्होंने कहा कि वित्तीय कमी के कारण सुरक्षा, गुणवत्तापूर्ण सेवा, उच्च मानक और कुशलता प्रभावित हुई है। प्रभु ने कहा कि इसे समाप्त करना होगा। हमें भारतीय रेल को सुरक्षा और आधारभूत संरचना के लिहाज से प्रमुख संस्था बनाना होगा।

यात्री सुरक्षा और सुविधा
रेल बजट 2015-16 को पेश करते हुए सुरेश प्रभु ने जनता को कई सौगातें दीं। बजट में रेल मंत्री का पूरा जोर आम जनता को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं देने पर रहा। रेल मंत्री ने यात्रियों को रिजर्वेशन कराने के लिए ज्यादा समय मुहैया कराया है। अब आप रेलवे रिजर्वेशन को 120 दिन पहले करा सकते हैं। रेलवे रिजर्वेशन के लिए चार महीने का समय मिलने से यात्री अपनी यात्राओं को लेकर खास योजना बना सकते हैं। इससे रिजर्वेशन काउंटरों में भीड़ भी कम होने की संभावना होगी।

इस्तेमाल करो और फेंको श्रेणी के बिस्तर सभी स्टेशनों पर भुगतान के आधार पर उपलब्ध कराए जाएंगे। यात्रियों की समस्याओं को रीयल टाइम सुलझाने के लिए पूरे देश में 24×7 हेल्पलाइन नंबर 138 काम करना शुरू कर देगा। यात्री अपनी यात्रा के दौरान ही शिकायत दर्ज करा सकेंगे। रेलवे से संबंधित शिकायतों का हल करने के लिए एक मोबाइल ऐप्लिकेशन भी विकसित किया जा रहा है। 01 मार्च, 2015 से उत्तर रेलवे पर एक पायलट परियोजना के रूप में इस सुविधा को शुरू किया जाए। इसके बाद प्राप्त अनुभव और यात्रियों से प्राप्त फीडबैक के आधार पर इस सुविधा को तुरंत सभी रेलों में शुरू किया जाएगा। इसके अलावा, सुरक्षा से संबंधित मुद्दों के महत्व को ध्यान में रखते हुए, सुरक्षा से संबंधित शिकायतों को प्राप्त करने के लिए एक टोल फ्री नम्बर 182 निर्धारित किया है।

गाड़ियों के आने-जाने की सूचना एसएमएस अलर्ट से देने की तैयारी। गाड़ियों में कन्फर्म सीटों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए रेल मंत्री ने कहा कि सवारी डिब्बो की संख्या में वृद्धि करके अधिक बर्थ उपलब्ध कराई जाएंगी और कुछ चिह्नित गाड़ियों की क्षमता बढ़ाने के उद्देश्य से उनमें मौजूद 24 सवारी डिब्बों के स्थान पर 26 डिब्बे जोड़े जाएंगे। इसके अलावा आम जनता के लिए चिह्नित गाडियों में अनारक्षित डिब्बों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी। वाई-फाई सुविधा अब सभी बी कैटिगरी के रेलवे स्टेशनों पर भी उपलब्ध कराई जाएगी।

देश के तीन प्रमुख महानगरों दिल्‍ली, मुंबई और कोलकाता के बीच की यात्रा को आसान बनाने के लिए उन्होंने हाईस्पीड कॉरिडोर बनाने की घोषणा की है। दिल्‍ली-कोलकाता और दिल्‍ली-मुंबई के बीच की नौ ट्रेनों की स्पीड बढ़ाकर 160 से 200 किलोमीटर तक की जाएगी। माना जा रहा है कि नई व्यवस्‍था से दोनों रास्तों पर एक रात में सफर करना संभव हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अन्य रूटों पर हाई स्पीड ट्रेनों की संभावानाओं का अध्ययन करने के लिए अध्ययन किया जा रहा है। मुंबई-अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन चलाने पर व्यवहारिकता अध्ययन रिपोर्ट इस साल मध्य तक आने की उम्मीद है।

सभी नवनिर्मित कोच ब्रेल युक्त होंगे, जिससे नेत्रहीन लोगों को सुरक्षा होगी। अब जरूरतमंद लोग वीलचेयर के लिए ऑनलाइन बुकिंग कर सकेंगे। रेलगाड़ियों के 17,000 से अधिक शौचालय बदले गए, अन्य 17,000 बदले जाने का लक्ष्य रखा गया है। रेलवे कागज रहित टिकट प्रणाली को विकसित करेगा और स्टेशन सफाई के लिए नया विभाग बनेगा। स्टेशनों के शौचालयों में सुधार की जरूरत बताते हुए रेल मंत्री ने 650 अतिरिक्त शौचालय बनाने का प्रस्ताव रखा है। इस बार बजट में मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग पर ट्रेन के आने से पहले टेक्नॉलजी के जरिए ऑडिय चेतावनी शुरू करने की भी बात की गई है।

ई-कैटरिंग में फूड चेन

सुरेश प्रभु ने रेल बजट 2015-16 पेश करते हुए कहा कि यात्रियों को अपनी पसंद का भोजन चुनने के लिए खानपान के ज्यादा विकल्प दिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि रेलवे ने इस वर्ष जनवरी से 108 गाड़ियों में ई-कैटरिंग सुविधा शुरू की है। इसमें यात्रियों की पसंद का ध्यान रखते हुए स्थानीय व्यंजन शामिल किए गए हैं। IRCTC की वेबसाइट के जरिए से यात्री टिकट बुक कराते समय अपने भोजन के लिए ऑर्डर दे सकते हैं। देश की सर्वोत्तम फूड चेन को इस में जोड़ने का कार्य किया जा रहा है।

रेलवे विश्‍वविद्यालय खोले जाएंगे

रेल मंत्री ने घोषणा की है कि संगठनात्‍मक प्रदर्शन में सुधार के लिए मानव संसाधन ऑडिट को व्‍यवस्थित रूप से शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों की कार्यक्षमता बढ़ाने के लिए कदम उठाए जाएंगे। मानव संसाधन प्रबंधन प्रणाली पर आधारित एचआरडी और र्इआरपी विकसित करने के लिए एक अलग व्यवस्था की जाएगी। प्रभु ने संसद में बताया कि मंत्रालय वर्ष 2015-16 के दौरान पूर्ण रूप से सम्‍पन्‍न रेलवे विश्‍वविद्यालय खोलने की प्रक्रिया में है। उन्होंने कहा कि जनता का पहला सम्‍पर्क फ्रंटलाइन कर्मचारियों से होता है। मंत्रालय इन कर्मचारियों के लिए व्‍यवहार कुशलता संबंधित मॉड्यूल शुरू करना चाहता है, ताकि ग्राहक सम्‍मानित महसूस करे। कर्मचारियों को विशेष रूप से रेल सुरक्षा बल के कर्मचारियों को योग में प्रशिक्षण दिया जाएगा। मंत्रायल कर्मचारियों के लिए स्‍टाफ क्वॉर्टर और रेल सुरक्षा बल के कर्मचारियों के लिए बैरकों की मरम्‍मत का कार्य शुरू करेगा।

स्वच्छ रेल-स्वच्छ भारत

साफ-सफाई को प्राथमिकता देने के उद्देश्य से स्टेशनों और गाड़ियों की सफाई के लिए एक नया विभाग बनाया जाएगा। एकीकृत साफ-सफाई के कार्य को एक विशेषज्ञता वाले कार्य के रूप में शुरू किया जाएगा, जिसके लिए पेशेवर एजेंसियों की सेवाएं ली जाएंगी और रेलवे कर्मचारियों को साफ-सफाई की नवीनतम पद्धतियों का प्रशिक्षण दिया जाएगा। रेलवे बड़े कोचिंग टर्मिनलों के पास अपशिष्ट पदार्थों से ऊर्जा पैदा करने वाले संयंत्रों को स्थापित करने की योजना पर कार्य कर रहा है, जिससे पर्यावरण अनुकूल विधि से अपशिष्ट पदार्थों का निपटारा किया जा सके। योजना के अंतर्गत शुरू में एक पायलट संयंत्र स्थापित किया जाएगा और उसके बाद चरणबद्ध आधार पर और संयंत्रों को स्थापित किया जाएगा।

रेल मंत्री ने कहा कि स्टेशनों और गाड़ियों में शौचालय सुविधाओं की हालत में भारी सुधार की जरूरत है। रेलवे पिछले वर्ष के 120 की तुलना में 650 अतिरिक्त स्टेशनों पर नए शौचालय बनाएगा। यात्री डिब्बों में बायो टॉयलट का प्रावधान किया जा रहा है, अभी तक 17,388 बायो टॉयलट लगाए गए हैं। इस वर्ष 17,000 और बायो टॉयलट लगाए जाएंगे। प्रभु ने कहा कि रेलवे की ऑनबोर्ड हाउसकीपिंग सर्विस को और प्रभावी बनाने के लिए इसकी समीक्षा की जा रही है। इस समय यह सेवा 500 जोड़ी गाड़ियों में उपलब्ध हैं। बिस्तर के साथ डिस्पोजेबल बैग प्रदान करने की व्यावहारिकता पर विचार किया जा रहा है ताकि यात्रियों अपने कूड़े को उसमें डाल सकें। गैर एसी डिब्बों में डस्टबिन लगाए जाएंगे। रेल मंत्री ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि भारतीय रेल यात्रा के दौरान आपके घर की तरह है, इसे स्वच्छ बनाए रखने में हमारी मदद कीजिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here