रोजी रोटी के चलते संकट में कुछ आढ़तियों को मिली राहत।

0
397

रोजी रोटी के चलते संकट में कुछ आढ़तियों को मिली राहत।
कैथल, 29 जून(कृष्ण गर्ग)
कैथल की अनाज मंडी के 342 आढ़तियों में से 199 को राहत मिल गई है, परन्तु बाकी के सामने उनकी रोजी रोटी का संकट बरकरार है। मामला किसानों की फसल बेचने के लिये कमेटी से बने आढ़त के लाइसेंस रिन्यू का है। विदित रहे की किसानों की

फसल बेचने के लिये मार्केट कमेटी से लाइसेंस जारी होते है। जिनकी मियाद 1 वर्ष से 3 वर्ष की होती है। मियाद के बाद आगे के लिये ये लाइसेंस रिन्यू करवाने होते है। कैथल की दोनों अनाज मंडियों में यही लाइसेंस रिन्यू करवाने को लेकर 2017 से संक

ट चल रहा था। उस समय से लाइसेंस प्रति वर्ष अस्थाई तौर पर रिन्यू कर दिये जाते थे। अब की बार भी दोनों मंडियों के सभी आढ़तियों द्वारा अपने लाइसेंस रिन्यू करवाने के लिये आवेदन मार्केट कमेटी में जमा करवाये थे। जिस आढ़तियों के पास 10 गुना

85 की दुकान अपनी थी या किराये पर थी, उनके लाइसेंस रिन्यू कर दिये गये थे। जिनके पास अपनी दुकान व पुरी दुकान का किराया नामा नही था और पिछले चार वर्षों से अस्थाई रूप से रिन्यू हो रहे थे, ऐसे 342 आढ़तियों के लाइसेंस रिन्यू करने से इंकार

कर दिया था। जिस पर दोनों मंडियों से 201 आढ़तियों ने पंजाब एण्ड हरियाणा हाईकोर्ट की शरण में गये थे, जिनमें से 2 आढ़तियों ने अपने नाम वापस ले लिये थे। माननीय हाईकोर्ट ने उन सभी 199 आढ़तियों को फाइनल फैसले तक अपना आढ़त का क

ारोबार करने की इजाजत दे दी है। जिन्होंने कोर्ट में अपील नही की थी, अब उनके सामने यह संकट बरकरार है।

खुशी में आढ़तियों ने की मिटिंग
हाईकोर्ट से राहत मिलने की खुशी में मंडी के सेकड़ों आढ़तियों ने मंडी स्थित मंदिर में एक बैठक का आयोजन किया। एक दूसरे को बधाई दी और मिठाई खिलाई। बैठक में मंडी प्रधान श्याम लाल नोच ने बताया कि अब आढ़ती बिना किसी टैंशन के

अपना कारोबार कर सकते है। बैठक में कैथल के विधायक लीला राम का भी धन्यवाद किया और कहा कि वह भीे आढ़तियों की इस समस्या को लेकर दिन रात एक करके फिरते रहे, बेशक से समस्या हल न हुई हो। बैठक में जिला कैथल अनाज मंडी

प्रधान अश्वनी शोरेवाला, मंडी प्रधान श्याम लाल, धर्मपाल कटवाड़, जसमेर ढांडा, कृष्ण चंदाना, बीरभान जैन, जयकिशन मान आदि अनेक आढ़ती मौजूद थे।

अपील करने वाले 199 आढ़ती बेरोक टोक के कर सकते है अपना कार्य- प्रताप
इस बारे में आढ़तियों के वकील प्रताप सिंह ने बताया कि अगली तारीख 10 नवंबर की है, परन्तु जब तक फैसला नही होता तब तक 199 आढ़ती बेरोक टोक के कार्य कर सकते है। उन्होंने बताया कि लाइसेंस रद्द नही होते, परन्तु उन पर कार्य करने के

आदेश दिये जाते है।

बोर्ड लेगा निर्णय- सचिव
इस बारे में मार्केट कमेटी सचिव रोशन लाल ने बताया की 199 आढ़ती अपना कार्य कर सकते है। उनके आवेदनों व आई रिन्यू की फीस पर फैसला बोर्ड लेगा। बाकी जो आढ़ती कोर्ट में नही गये वे अपना कार्य नही कर सकते। उनके लाइसेंस की मियाद

समाप्त हो गई है। उनके आवेदन वापस कर दिये जा सकते है।
फोटो- कोर्ट के निर्णय से खुश आढती बैठक करते हुये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here