सरकार द्वारा सरकारी विद्यालयों में शिक्षा की गुणवîाा को सुधारने के लिए अनेक कदम उठाए गए

0
584


कैथल, 25 जनवरी (कृष्ण गर्ग)
हरियाणा के स्कूल शिक्षा विभाग के अतिरिञ्चत मुक्चय सचिव पीके दास ने कहा कि सरकार द्वारा सरकारी विद्यालयों में शिक्षा की गुणवîाा को सुधारने के लिए अनेक कदम उठाए गए हैं। विद्यार्थियों को बोर्ड की परीक्षा के बारे में पूर्ण रूप से जागरूक करने के लिए उन्हें बोर्ड के गत 3 वर्षों के प्रश्न पत्रों को हल करने के लिए दिया जा रहा है। इससे उनमें लिखित परीक्षा की आदत विकसित होगी।
पीके दास लोक निर्माण विश्राम गृह में मुक्चयमंत्री घोषणाओं के क्रियान्यवन की अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक से पूर्व प्रेस प्रतिनिधियों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि गत 10वीं व 12वीं कक्षाओं के परीक्षा परिणाम के अवलोकन से पता चलता है कि लगभग 80 प्रतिशत विद्यार्थी पास होने लायक अंकों तक ही सीमित हैं। इन बच्चों में पढ़ाई के प्रति रूचि पैदा करने के लिए अनेक कदम उठाए गए हैं। सरकार द्वारा अध्यापकों की भर्ती पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है तथा शीघ्र ही नौंवी से 12वीं कक्षा को पढ़ाने वाले लगभग 3500 अध्यापकों की सेवाएं भी विभाग को मिल जाएंगी तथा टीजीटी की भर्ती बारे भी कदम उठाए जा रहे हैं, ताकि प्रदेश में अध्यापकों की कमी की वजह से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो। वर्तमान में प्रदेश में प्राईमरी अध्यापकों की कोई कमी नही है तथा 25 विद्यार्थियों पर एक विद्यार्थी उपलद्ब्रध है।
अतिरिञ्चत मुक्चय सचिव ने कहा कि विभाग द्वारा कैचअप प्रोग्राम के तहत सरकारी विद्यालयों में पढऩे वाले विद्यार्थियों की कौशल पास बुक तैयार की जाएगी, जिसमें कक्षा इंचार्ज द्वारा 10 कौशलों में से हर बच्चे की कौशल का विवरण होगा, जो अगली कक्षा में भी संबंधित अध्यापक के पास उपलद्ब्रध करवाया जाएगा, ताकि वह इस कौशल पास बुक में दर्ज बच्चे की कमजोरी को समझकर उसके स्तर को सुधार सके। विभाग द्वारा अध्यापक प्रशिक्षण पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उन्होंने निजी विद्यालयों द्वारा हर वर्ष बढ़ाई जा रही फीस के संदर्भ में पूछे गए प्रश्न के उîार में कहा कि निजी विद्यालयों द्वारा हर वर्ष फार्म-6 में पूरा विवरण देना होता है। यदि विद्यालय द्वारा गत वर्ष की भांति सुविधाओं में वृद्धि नही की जाती है तो फीस भी नही बढ़ाई जा सकती। उन्होंने स्पष्टï किया कि निजी विद्यालय केवल पहली, छटी, नौवीं एवं 11वीं कक्षा में प्रवेश फीस ले सकते हैं। इन कक्षाओं के अतिरिञ्चत यदि कोई निजी विद्यालय प्रवेश शुल्क लेता है तो उसकी शिकायत जिला शिक्षा अधिकारी व विभाग को की जा सकती है।
उन्होंने कैथल शहर में निर्माणाधीन बैंक स्कवेयर-सिटी स्कवेयर में अनियमितताओं की शिकायतों के संदर्भ में पूछे गए प्रश्न के जवाब में कहा कि ऐसी शिकायतों की जांच करना जिला प्रशासन का कार्य है और यदि जांच के दौरान कोई अनियमितता पाई जाती है तो उसे दुरूस्त करके विकास कार्य को पूर्ण करवाना होता है, ताकि लोगों को संबंधित विकास कार्य का लाभ मिल सके। सरकार द्वारा धार्मिक स्थलों को पर्यटन को बढ़ावा देने की दृष्टिï से विकसित किया जा रहा है। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलने के साथ-साथ राजस्व भी बढ़ेगा। हमारी सांस्कृतिक विरासत को बनाए रखने में भी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश में जारी विकास परियोजनाओं की गति को बढ़ाने तथा लंबित घोषणाओं को शीघ्र शुरू करवाने के उद्देश्य से उच्चाधिकारियों को जिलों की जिक्वमेवारी सौंपी गई हैं, ताकि वे संबंधित जिला में मुक्चयमंत्री घोषणाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा करके इन विकास कार्यों की गति को बढ़ाने तथा लंबित घोषणाओं को शीघ्र शुरू करवा सकें। उन्हें जिला कैथल में मुक्चयमंत्री घोषणाओं की समीक्षा के लिए नियुञ्चत किया गया है।
इस मौके पर उपायुञ्चत धर्मवीर सिंह, पुलिस अधीक्षक वसीम अकरम, अतिरिञ्चत उपायुञ्चत सतबीर सिंह कुंडु मौजूद रहे।
फोटो – केटीएल04

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here