सरकार द्वारा 10 लाख नए स्मार्ट मीटर खरीदने का फैसला किया है, जिन्हें शहरी क्षेत्र में लगाया जाएगा

0
138

कैथल, 1 दिसंबर (कृष्ण गर्ग)
उतर एवं दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगमों के मुक्चय प्रबंध निदेशक शत्रुजीत कपूर ने कहा कि सरकार द्वारा 10 लाख नए स्मार्ट मीटर खरीदने का फैसला किया है, जिन्हें शहरी क्षेत्र में लगाया जाएगा। इन मीटरों में प्रीपेड की व्यवस्था भी होगी तथा 4 व 5 वर्षों में मैनुअल मीटर रीडिंग आदि से छुटकारा मिलेगा। निगमों द्वारा उपभोञ्चताओं के मोबाईल पर एसएमएस के माध्यम से बिल भेजे जा रहे हैं।
शत्रुजीत कपूर स्थानीय कोयल कॉक्वपलैञ्चस में उîार हरियाणा बिजली वितरण निगम के निदेशक ओपी शर्मा तथा चीफ इंजीनियर टीके शर्मा के साथ प्रेसवार्ता में प्रेस प्रतिनिधियों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि निगमों द्वारा 10 लाख नए स्मार्ट मीटर खरीदने का टैंडर अलाट किया गया है, ताकि मीटर रीडिंग एवं बिल बनाने में और पारदर्शिता लाई जा सके। उन्होंने कहा कि क्वहारा गांव-जगमग गांव योजना के तहत 900 ग्रामीण फीडरों में से 605 फीडरों पर 24 घंटे बिजली उपलद्ब्रध करवाई जा रही है। प्रत्येक ग्रामीण फीडर पर एक से डेढ़ करोड़ रुपए की राशि बिजली के खंभे, तारे व ट्रांसफार्मर बदलने पर खर्च किए जा रहे हैं। हर उपमंडल द्वारा 3-3 फीडर चुनकर यह कार्य करवाया जा रहा है। गत वर्ष बिजली चोरी पर अंकुश लगाने के लिए अप्रैल-मई माह के दौरान विभिन्न सरकारी संस्थानों पर छापेमारी की गई थी तथा लगभग 350 मुकदमें दर्ज किए गए थे।
उन्होंने कहा कि बिजली बिल निपटान योजना 2018 के तहत जिला में 10 हजार उपभोञ्चता इस योजना से जुडे हैं तथा 65 हजार अन्य बकाया बिल उपभोञ्चता भी इस योजना का 31 दिसंबर 2018 तक लाभ उठाएं। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को गांव अनुसार एवं वार्ड अनुसार बकायादारों की सूची तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं, जो सरपंचों व जिला प्रशासन को उपलद्ब्रध करवाई जाएंगी, जिनके आधार पर बकाया बिजली बिल उपभोञ्चताओं से संपर्क करके उन्हे ंबकाया बिल के भुगतान बारे प्रेरित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 24 घंटे बिजली उपलद्ब्रध होने से बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ महिलाओं को भी काफी सुविधा मिली है। ग्रामीण क्षेत्र में 24 घंटे बिजली आपूर्ति होने से उद्योग धंधे भी पनपने लगे हैं, जिससे बेरोजगारों को रोजगार भी उपलद्ब्रध होगा। उन्होंने कहा कि उपभोञ्चताओं की मांग पर दोबारा मीटर टैस्टिंग की सुविधा उपलद्ब्रध करवाई गई है। उन्होंने कहा कि बिजली निगमों ने खाली पदों को भरने के लिए प्रक्रिया जारी है। लगभग 4500 टैक्रिकल तथा इतने ही नॉन टैक्रिकल स्टाफ की भर्ती की जा रही है, जिसके बाद निगमों में स्टाफ की कमी नही रहेगी।
इस मौके पर अधीक्षक अभियंता बीएस रंगा, कार्यकारी अभियंता सोमबीर सहित निगम के अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here