');}

शिक्षिका माता सावित्री बाई फुले के जीवन व आदर्शों से प्रेरणा ले– जैन

ktl01

कैथल, 5 जनवरी (कृष्ण गर्ग)
हरियाणा की महिला एवं बाल विकास, नगर निकाय तथा सूचना, जन संपर्क एवं भाषा विभाग की मंत्री  कविता जैन ने कहा कि भारत की प्रथम महिला शिक्षिका माता सावित्री बाई फुले के जीवन व आदर्शों से प्रेरणा लेते हुए महिलाओं के उत्थान एवं सशक्तिकरण के लिए कार्य करते हुए समाज से सामाजिक बुराईयों को दूर करने का संकल्प लें।
कविता जैन आज स्थानीय चंदाना गेट रामलीला मैदान में भाजपा जिला ओबीसी मोर्चा के जिला अध्यक्ष  पाला राम सैनी एवं महात्मा ज्योतिबा फुले शिक्षा एवं समाज कल्याण समिति द्वारा आयोजित माता सावित्री बाई फुले की जयंती के उपलक्ष में आयोजित समारोह में बतौर मुख्यातिथि बोल रही थी। इससे पूर्व उन्होंने माता सावित्री बाई फुले के चित्र पर पुष्प अर्पित किए तथा दीप प्रज्ज्वलित किया।  कविता जैन ने कहा कि माता सावित्री भाई फुले ने 1831 में जन्म लेकर भारत की गुलामी के दौर में महिलाओं की दयनीय हालत को देखते हुए महिलाओं के अधिकारों के लिए लड़ाई शुरू की। उन्होंने कहा कि माता सावित्री बाई को पता था कि महिलाओं की मजबूती के लिए उनकी शिक्षा का प्रचार-प्रसार जरूरी है, इसलिए उन्होंने पुणे में पहला महिलाओं के लिए स्कूल स्थापित करके शिक्षिका बनकर संघर्ष किया। उन्होंने महिलाओं को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक करने के साथ-साथ समाज से सामाजिक कुरीतियों को दूर करने का काम किया। इसलिए उन्हें महिलाओं एवं दलित जातियों को शिक्षित करने के प्रयासों के लिए जाना जाने लगा। सावित्री बाई ने अपने जीवन को एक मिशन की तरह जिया तथा विधवा विवाह करवाना, छुआछुत मिटाना, महिलाओं की मुक्ति और दलित महिलाओं को शिक्षित करने का अभियान चलाया।
कविता जैन ने कहा कि सावित्री बाई ने महिलाओ पर हो रहे अत्याचारों को देखते हुए महिलाओं की सुरक्षा के लिए एक सैंटर की भी स्थापना की, जिसका नाम बाल हत्या प्रतिबंधक गृह रखा। वे महिलाओं की जी जान से सेवा करती थी और घर में किसी प्रकार के रंग भेद और जाति भेद के खिलाफ थी। सावित्री बाई फुले 19वीं शताब्दी की पहली भारतीय समाज सुधारक थी, जिन्होंने महिलाओं के अधिकारों के प्रचार-प्रसार के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया। सावित्री बाई का पूरा जीवन महिलाओं के उत्थान के लिए समर्पित था, जिन्होंने गर्भवती महिलाओं को भी उपचार देकर समाज सेवा के पुनीत कार्य में योगदान दिया।
महिला एवं बाल विकास मंत्री  कविता जैन ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरूआत हरियाणा से की थी। प्रदेश सरकार ने महिलाओं को सशक्त व मजबूत बनाने के लिए अनेकों कार्यक्रम शुरू किए, जिसके परिणाम स्वरूप हरियाणा का लिंगानुपात अब 937 तक पहुंच गया है। हरियाणा प्रदेश में प्रत्येक 20 किलोमीटर के अंतर पर एक महिला कालेज की स्थापना की जा रही है। प्रदेश सरकार ने कन्यादान के रूप में शगुन के रूप में दी जाने वाली राशि 51 हजार रुपए करने के साथ-साथ परिवार को विवाह के मौके पर एक सप्ताह में अदायगी करने के आदेश दिए गए हैं।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने महिलाओं के हितों की रक्षा करते हुए मुस्लिम महिलाओं की भलाई के लिए तीन तलाक बिल पेश किया, लेकिन कांग्रेस ने महिला विरोधी आचरण का प्रदर्शन करके इस बिल को राज्य सभा में लटकाने का काम किया। उन्होंने कहा कि सरकार, संगठन, संस्थाएं तथा आम जनता मिलकर गर्भ में बेटी को बचाने, उनके स्वाभिमान को बढ़ाने तथा शिक्षा के प्रसार के लिए एकजुट होकर काम करने से ही इस अभियान को सफल बनाया जा सकता है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल के कुशल नेतृत्व में हरियाणा प्रदेश में नौकरियां योग्यता के आधार पर पूर्ण पारदर्शिता सेे दी जा रही हैं। मुख्यमंत्री ने सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों में सबका साथ-सबका विकास, हरियाणा एक-हरियाणवी एक के मूल मंत्रों को चरितार्थ करते हुए एक समान कार्य करवाए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने महापुरूषों की जयंतियों को सरकारी स्तर पर मनाने का ऐतिहासिक फैसला करके इन महापुरूषों की शिक्षाओं को भावी पीढिय़ों तक पहुंचाने का मार्ग प्रशस्त किया है।  कविता जैन ने सावित्री बाई फुले के नाम पर स्थापित किए जाने वाले पुस्तकालय के निर्माण हेतू पर्याप्त धनराशि देने का आश्वासन दिया।  कविता जैन ने खेलों में अग्रणी छात्राओं को सम्मानित किया तथा कुश्ती में गोल्ड मैडल विजेता अजय सैनी को भी सम्मानित किया।
लाडवा से विधायक डा. पवन सैनी ने कहा कि माता सावित्री बाई फुले ने रूढ़ीवादिता के युग में कितनी ही रूकावटों को दूर करते हुए महिलाओं की शिक्षा का बीड़ा उठाया तथा समाज के विरोध के बावजूद उन्होंने इस अभियान को आगे बढ़ाया। उन्होंने माता सावित्री बाई फुले को नमन करते हुए कहा कि ऐसी महिलाओं का जीवन हमेशा प्रेरणा देता रहेगा। उन्होंने सावित्री बाई फुले पुस्तकालय के लिए श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री  नायब सैनी की ओर से 5 लाख रुपए की राशि देने की घोषणा की।
भाजपा जिला के अध्यक्ष  अशोक ढांड ने मंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि आज महिलाएं हर क्षेत्र में पुरूषों को पीछे छोड़ रही है। महिलाओं ने हर क्षेत्र में अपनी उपलब्धियों से प्रदेश और देश का नाम रोशन किया है। भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने महापुरूषों महाराणा प्रताप, गुरू गोबिंद सिंह, सरदार पटेल की जयंती सरकारी स्तर पर आयोजित करके उनकी शिक्षाओं को युवा पीढ़ी तक पहुंचाने का काम किया है।
रैली के संयोजक  पाला राम सैनी ने कहा कि माता सावित्री बाई फुले का जीवन हमेशा संघर्ष का रहा है। माता सावित्री बाई ने महिला शिक्षा की अलख जगाकर समाज को नई दिशा दी। महिला शिक्षा के बिना समाज के सुधार की कल्पना को साकार नही किया जा सकता।  पाला राम ने इस जयंती पर आए सभी उपस्थित जन का आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर ओबीसी के प्रदेश अध्यक्ष मदन चौहान, श्याम लाल जांगड़ा, डा. संतोष दहिया ने भी समारोह को संबोधित किया। इस मौके पर वन विकास निगम के चेयरमैन अरूण सर्राफ, राव सुुरेंद्र, रणधीर गोलन, लीला राम, राजपाल तंवर, मनीष कठवाड़, हरदीप आंधली, सुरेश गर्ग, शैली मुंजाल, रामपाल राणा, प्रवीण सरदाना, संजय भारद्वाज, प्रवीण प्रजापति, धर्मवीर डागर, गोपाल सैनी, पाला राम कश्यप, संजय सैनी, राजेश निर्मल, जयदीप राणा, रेणु कौर सैनी के अलावा  भाजपा के अन्य कार्यकर्ता व शहर के गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

You can leave a response, or trackback from your own site.

Leave a Reply